मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

सीतामढ़ी, जेएनएन। पटना से आई निगरानी टीम की नगर थाने में छापेमारी के बाद दारोगा प्रमोद कुमार-2 को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। वहीं नगर थानाध्यक्ष सह इंस्पेक्टर सुबोध कुमार मिश्रा समेत कई पुलिस अधिकारी फरार हो गए। छापेमारी में बड़े पैमाने पर जब्त शराब की हेराफेरी का मामला सामने आया है। फरार इंस्पेक्टर और गिरफ्तार दारोगा समेत आधा दर्जन पुलिस अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। उक्त पुलिस अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है।

 जबकि, एसपी अनिल कुमार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए नगर थाने में तैनात क्यूआरटी के आठ जवानों को हटा दिया है। हालांकि, प्रशासनिक स्तर पर इसकी पुष्टि नहीं हुई है। लेकिन, पुलिस मुख्यालय के आदेश पर सीतामढ़ी में हुई इस कार्रवाई के बाद हड़कंप मच गया है। बताते चलें कि आइजी प्रोविजन रत्न संजय के नेतृत्व में पटना से आई टीम ने शुक्रवार की दोपहर नगर थाने में छापेमारी शुरू की थी। इस दौरान नगर थाने के मालखाना समेत तीन कमरों को तोड़ कर जब्त शराब, नष्ट शराब, शराबबंदी के बाद दर्ज शराब से जुड़े केस की सघन जांच की गई। टीम को बड़ी मात्रा में ऐसी शराब मिली, जिनका कहीं कोई लेखाजोखा नहीं है। इंस्पेक्टर समेत पुलिसकर्मियों से लंबी पूछताछ की गई।

 निगरानी टीम के समक्ष इंस्पेक्टर ने दारोगा प्रमोद कुमार-2 को जिम्मेदार बताकर खुद आधी रात में ही फरार हो गए। एसपी कुमार और डीएसपी मुख्यालय पीएन साहू की मौजूदगी में हुई जांच में गड़बड़ी उजागर होने के बाद एसपी ने तत्काल प्रभाव से नगर थाने की क्यूआरटी के सभी आठ जवानों को हटा दिया। बताया जा रहा है कि नगर थाने की पूरी टीम को हटाने की तैयारी की जा रही है। एसपी कुमार ने सिर्फ इतना बताया कि मामले की जांच जारी है, दोषी के खिलाफ कार्रवाई होगी। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप