शेखपुरा। वृद्धा पेंशन और आवास योजना का लाभ दिलाने के नाम पर एक लाचार वृद्ध महिला का 30 डिसमिल जमीन लिखा ली। यह मामला जिले के कसार सहायक थाना के एफनी गांव से जुड़ा हुआ है। वृद्ध महिला बुजुरबा देवी को इस ठगी का पता लगभग आठ साल बाद लगा। इस अनोखी ठगी का

उद्भेदन होने के बाद वृद्ध महिला ने बगल के गांव बहादुरपुर निवासी गणेश बरई के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई है। ठगी की शिकार हुई वृद्ध महिला बुजुरबा देवी ने बताया कि ऐफनी में उसे नैहर में जमीन मिली है। बुजुरबा देवी का ससुराल नालंदा जिले के गिरियक थाना के रामगढ़ गांव में है। मंगलवार को अपने एक रिश्तेदार के साथ अदालत आई बुजुरबा देवी ने बताया कि ऐफनी में पिता श्याम भुइयां को कोई अन्य संतान नहीं रहने की वजह से उन्हें 30 डिसमिल जमीन मिली थी। आज से लगभग आठ साल पहले 2010 में ऐफनी के बगल के गांव बहादुरपुर गांव के एक व्यक्ति गणेश बरई ने वृद्धा पेंशन और इंदिरा आवास दिलाने के नाम पर उन्हें शेखपुरा लेकर लाया और उनसे 30 डिसमिल जमीन लिखा ली। वृद्धा ने बताया कि काफी समय बाद ठगी का मामला प्रकाश में आया जब गणेश बरई ने उनकी जमीन पर खेती करनी शुरू कर दी। बाद में गांव के ही कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं ने जानकारी निकाली तो पता चला कि गणेश ने अपने नाम से जमीन की रजिस्ट्री करा ली है।

Posted By: Jagran