शेखपुरा। जिले में मंगलवार को भी कोरोना के टीकाकरण का काम हुआ। मंगलवार को जिला के कई प्रमुख लोगों ने टीका लगवाया। इसमें सिविल सर्जन डॉ. कुंवर सिंह, एसीएमओ डॉ. केएमपी सिंह, सदर अस्पताल के उपाधीक्षक डॉ. वीरेंद्र कुमार शामिल हैं। इन लोगों को सदर अस्पताल के कोरोना टीकाकरण केंद्र पर जाकर टीका लगवाया। सिविल सर्जन तथा एसीएमओ ने बताया यह टीका पूरी तरह से सुरक्षित तथा कोरोना से बचाव के लिए जरूरी है। तीन दिनों में जिला में तीन सौ से अधिक महिला-पुरुष को टीका लगाया गया है। मगर किसी में कोई तरह का साइड इफेक्ट की शिकायत नहीं मिली है। कहा जिला में अभी सिर्फ स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने वाले सरकारी-गैर सरकारी चिकित्सकों, नर्सों तथा पारा मेडिकल स्टाफों को दिया जा रहा है। टीका जिनको लगाया जाना है उन्हें 12 घंटे पहले एसएमएस करके सूचना दी जाती है।

जिले में कुल 520 लोगों को दिया गया कोविड-19 का टीका

शेखपुरा जिले में मंगलवार को तीसरे दिन 200 लोगों को कोविड-19 का टीका दिया गया। तीन दिनों तक चले इस अभियान में 520 लोग को कोविड 19 का टीका दिया गया। जिसमें प्रख्यात चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी शामिल है। प्रथम चरण में स्वास्थ्य कर्मियों को ही कोविड-19 का टीका दिया जाना था । इसकी जानकारी देते हुए जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी ने बताया कि शेखपुरा जिले में मंगलवार को बरबीघा में 300 कोविड-19 टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया था जिसमें 130 लोगों को टीका लगाया गया । शेखपुरा सदर अस्पताल में 127 लोगों के लिए टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित था । इसमें 70 लोगों का टीकाकरण हुआ। अब तक तीन दिनों तक चले इस अभियान में 520 लोगों ने टीका लगवाया है। बताया कि तीन दिनों तक ही यह अभियान प्रथम चरण में चलना था। इसके बाद जिले के सभी छह प्रखंडों में संचालित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर कोविड-19 टीकाकरण का अभियान चलाया जाएगा । इसके लिए राज्य स्वास्थ्य समिति से गाइडलाइन मिलने का इंतजार किया जा रहा है।

----

सिविल सर्जन बोले: वैज्ञानिकों ने परख कर बनाया है टीका

सिविल सर्जन ने कहा कि वैज्ञानिकों ने टीका को जांच-परख कर बनाया है। दुनियाभर में इस टीका की मांग हो रही है और किसी भी तरह की असमंजस की स्थिति नहीं है। वे मंगलवार को टीका लगवा रहे थे। टीका लगाने के बाद जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कृष्ण मुरारी ने कहा कि कुछ भ्रम लोगों के द्वारा जानबूझकर फैला दिया गया है। जबकि ऐसी कोई बात नहीं है। सभी वरिष्ठ चिकित्सक से लेकर अन्य स्वास्थ्य कर्मी भी टीका लगवा रहे हैं और किसी भी तरह की कोई परेशानी किसी को नहीं हो रही है। साधारण टीकाकरण अभियान जब भी देश में चला है तो उसी से मिलता-जुलता यह भी अभियान है। ऐसे में किसी लोग में यदि किसी तरह का भ्रम है तो उसे दूर करना चाहिए। कोविड-19 महामारी का टीका बनाकर देश के वैज्ञानिकों ने एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है और हम सब के लिए यह जीवन रक्षक है। सबको आगे बढ़कर कोविड-19 का टीका लेना चाहिए।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप