शेखपुरा। यूरिया के लिए किसान पिछले एक माह से परेशान है। जैसे-तैसे किसानों ने गेहूं लगाई परंतु पटवन के बाद उस में यूरिया देने के लिए किसानों को भटकना पड़ रहा था। वैसे में बिस्कोमान में यूरिया आने के बाद किसान यूरिया खरीदने के लिए उमड़ पड़े। इसमें रात्रि से ही किसान यूरिया के लिए अपनी लाइन लगा देते हैं और दोपहर बाद उनको यूरिया मिल पाता है। वही यूरिया के साथ-साथ नैनो यूरिया का बोतल भी लेना अनिवार्य कर दिया गया है।

---

स्थान-पटेल चौक, शेखपुरा

समय 12:00

बिस्कोमान में यूरिया खरीदने वालों की भीड़ लगी हुई है। शेखपुरा सदर प्रखंड के साथ-साथ अरियरी, चेवाड़ा और घाटकुसुंभा से भी किसान यूरिया खरीदने के लिए यहां पहुंचे हुए हैं। घाटकुसुंभा प्रखंड के सुजावलपुर निवासी किसान प्रदीप प्रसाद ने बताया कि सुबह चार बजे से लाइन में लगने के बाद यूरिया उपलब्ध हुआ। उसमें भी दो बोरी यूरिया देने पर एक बोतल नैनो यूरिया लेना अनिवार्य कर दिया गया है। पचना निवासी किसान सूबे यादव ने बताया कि आधी रात को उठकर लाइन में लगते है तो दोपहर में यूरिया मिल रहा है। सुल्तानपुर गांव निवासी शोभा देवी ने बताया कि सुबह में छह बजे लाइन में लगी है अब जाकर यूरिया मिल रहा है।

---

स्थान- बरबीघा बिस्कोमान

समय - 1 बजे बरबीघा अंचल कार्यालय में संचालित बिस्कोमान कार्यालय में यूरिया लेने वाले किसानों की लंबी लाइन लगी हुई है। कोविड-19 नियम का उल्लंघन भी हो रहा है। एक गार्ड भीड़ नियंत्रित करने में लगा हुआ है। किसान पप्पू झा, सरैया निवासी ने बताया कि सुबह सात बजे से यूरिया लेने के लिए लाइन में लगे हैं तो एक बजे मिल रहा है। इसी तरह की परेशानी पुरेसरा निवासी राकेश कुमार ने भी बताई और कहा कि नैनो यूरिया लेना अनिवार्य कर दिया गया है अब देखते हैं इसके प्रयोग के बाद क्या नतीजा आता है।

Edited By: Jagran