शिवहर। भारत सरकार की नई वाहन नीति ने मानों वाहनचालकों में खलबली सी मचा दी है। पकड़े जाने और भारी भरकम चालान के खौफ से सहमे लोग वाहन सहित सड़क पर आने से डर रहे हैं। नतीजतन पुरानी जर्जर गाड़ियां एवं टीन एजर्स चालक अब सड़क पर नहीं दिख रहे। दूसरे कि डर से ही सही अब बाइक सवार हेलमेट पहनने एवं चारपहिया वाहनों के चालक सीट बेल्ट बांधने लगे हैं। डीएम अरशद अजीज एवं एसपी संतोष कुमार ने संयुक्त आदेश जारी कर जिलावासियों को वाहन नियमों के अनुपालन का आह्वान किया है। वहीं अपनी संबद्ध मशीनरी भी टाइट कर दी है। वाहन चेकिग अभियान सख्ती से लागू है। - मुख्यालय में वाहन चेकिग से हड़कंप सोमवार को मुख्यालय का हर्ट कहे जाने वाले जिला चौक पर नगर थानाध्यक्ष राकेश कुमार के नेतृत्व में सघन वाहन चेकिग अभियान चला। इस दौरान सअनि अखिलेश कुमार सहित अन्य पुलिस बल के सहयोग से चौराहे पर गाड़ियों के कागजात एवं हेलमेट की सख्ती से जांच की गई। इस दौरान दस बाइक चालकों को बिना हेलमेट पाए जाने पर चालान काटा गया। वहीं इस दौरान चौक पर एक मायने में अफरातफरी का आलम रहा। चेकिग होता देख दूर से ही बाइक चालकों को दूसरी दिशा में भागते या गलियों में घुसते देखा गया। वहीं व्यस्ततम चौक पर वाहन चेकिग से जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई। वाहन चालकों को सावधान किया गया कि नए नियम का अनुपालन करना लाजिमी है। ऐसा नहीं करने पर चालान कटना तय है। चाहे वह अधिकारी हो या सामान्य नागरिक या कोई बड़ी शख्सियत। नियम सबके लिए बराबर है। - डीटीओ कार्यालय में बढ़ गई है भीड़ इन दिनों सारे काम छोड़ गाड़ी के जरुरी कागजात दुरुस्त करने की एक मुहिम सी चल पड़ी है। समाहरणालय स्थित जिला परिवहन कार्यालय जहां कोई भूला- भटका वाहन स्वामी ही पहुंचता था आज ऑफिस खुलने से पहले ही लोग कतारबद्ध हो जा रहे हैं। कार्यालय के प्रधान सहायक राकेश कुमार ने बताया कि इन दिनों यहां आवेदकों की संख्या में गुणात्मक वृद्धि देखी जा रही है। जहां पूरे महीने में ड्राइविग लाइसेंस के ढाई सौ आवेदन आते थे बीते पांच दिनों में पांच सौ से अधिक आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। वही हाल लाइसेंस नवीनीकरण का भी है। इसके अलावा टैक्स एवं फिटनेस शुल्क जमा कराने वालों की भी लंबी फेहरिस्त है।

उधर एक इंश्योरेंस कंपनी के प्रतिनिधि श्याम कुमार ने इस बाबत पूछने पर बताया कि इंश्योरेंस कराने वालों में दो सौ फीसद की वृद्धि हुई है। पहले हम लोगों के घर जाकर इसके लिए प्रेरित करते थे। अब हाल यह है कि वाहनचालकों की फौज हमें ढूंढ रही है। मालूम हो कि ऐसी तीन इंश्योरेंस कंपनियां शिवहर में क्रियाशील हैं।

अब प्रदूषण जांच केंद्र का रुख करें तो वहां वाहन खड़ी करने को जगह कम पड़ रही है। सुबह से शाम तक वाहनचालकों की भीड़ देखी जा सकती है। अपने वाहन की जांच पहले कराने को लोग पैरवी तक कर रहे हैं। संचालक ने बताया कि पहले पूरे दिन में अधिकतम चार - पांच कस्टमर होते थे। आज प्रतिदिन सौ से सवा सौ वाहनों की जांच हो रही है। - बाइक एवं हेलमेट की बिक्री में इजाफा चालान काटे जाने के भय ने जहां हेलमेट की बिक्री जोरों पर है। वहीं बाइक एजेंसी में भी ग्राहकों की भीड़ बढ़ गई है। मुकम्मल जरुरी कागजात नहीं होने एवं बाइक पुरानी होने से लोग नई बाइक लेने को विवश हैं। ऐसे में बाइक एजेंसियों में जाकर विभिन्न बाइक्स की कीमत सहित अन्य बिदुओं का मिलान कर रहे हैं। ऐसे में नया कानून बाइक कंपनियों के लिए एक सुनहरा अवसर दे दिया है। - सड़क पर वाहन परिचालन में दिख रही कमी नया नियम लागू होने के बाद सड़क पर वाहनों की आवाजाही में कमी दिख रही है। सड़क पर अब वैसी ही गाडियां चल रही हैं जिसके कागजात दुरुस्त हैं। लोगों का यह भी मानना है कि इसका एक सुखद परिणाम यह भी दिख रहा है कि हाल के दिनों में सड़क दुर्घटना में कमी आई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप