शिवहर। जीवन में आगे बढ़ने एवं लक्ष्य की प्राप्ति के लिए आत्मविश्वास के साथ एक हद तक जूनून भी चाहिए। उसके बाद मंजिल मिलना तय है। उक्त बातें विधिक प्राधिकार जिला सचिव सह न्यायाधीश (सब- जज) रामसुजान पांडेय ने पुरनहिया में बुधवार को सोनौल हाई स्कूल में कही। जहां वे सेंटर डायरेक्ट के तत्वावधान में आयोजित विधिक जागरूकता शिविर में बच्चों को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान कानूनी साक्षरता क्लब द्वारा किशोर न्याय अधिनियम एवं पॉक्सो एक्ट, बाल श्रम एवं बाल विवाह सहित अन्य बाल समस्याओं एवं निदान की चर्चा की गई। बताया कि उपरोक्त सभी कृत्य कानूनन अपराध की श्रेणी में आते हैं जिसके लिए सजा एवं जुर्माने का प्रावधान है। कहा कि इन कुरीतियों को दूर करने के लिए समाज के प्रबुद्ध, अभिभावक, विद्यालय के शिक्षक सहित सर्वमंगल बच्चों को आगे आना होगा। शिक्षकों को ताकीद की गई कि विधालय में कानूनी साक्षरता क्लब का गठन एवं संचालन गंभीरता से करें।

सेंटर डॉयरेक्ट के कार्यकारी निदेशक सुरेश कुमार ने किशोर न्याय अधिनियम एवं पॉक्सो एक्ट के बारे में विस्तार से जानकारी दी। बताया कि जानकार आश्चर्य होगा कि 18 साल से कम उम्र के करीब 63 हजार बच्चे/बच्चियां गायब हैं जिससे बाल श्रम, अंग प्रत्यारोपण एवं यौन शोषण जैसे घृणित काम कराते हैं। बताया कि बच्चों की गुमशुदगी पर चाइल्ड लाइन एवं स्थानीय थाने को अविलंब सूचना दें। थानाध्यक्ष विजय कुमार यादव ने थाने का मोबाइल नंबर 9431822854 साझा करते हुए कहा कि किसी भी तरह की घटना/ दुर्घटना की सूचना पर पुलिस त्वरित कार्रवाई करेगी। मौके पर कानूनी साक्षरता क्लब प्रभारी मुकेश कुमार पांडेय, विद्यालय के प्रभारी एचएम अभयशंकर कुमार, कार्यक्रम पदाधिकारी संदीप कुमार, लालबाबू राऊत, अशोक कुमार, लालबाबू राउत, नीलम कुमारी, मुकेश दूबे, राजेश कुमार एवं शुभम कुमार सहित बड़ी संख्या में स्कूली बच्चे मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस