जासं, छपरा : जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए लगातार प्रयास हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से भी सकारात्मक पहल की जा रही है। इसी कड़ी में विभाग ने कोरोना जांच में और तेजी लाने के उद्देश्य से नये लक्ष्य निर्धारित किया है।

अब सारण जिले में प्रतिदिन 1400 सैंपल आरटी-पीसीआर तथा 250 सैंपल ट्रूनेट से जांच के लिए कलेक्ट किए जाएंगे। इस संबंध में राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनोज कुमार ने पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। जारी पत्र में कहा गया है कि जिले के आरटी-पीसीआर व ट्रूनेट से जांच के लिए नमूना संग्रहण के लक्ष्य को पुनरीक्षित करने की आवश्यकता समझी गई है। जिलावार आरटी-पीसीआर व ट्रूनेट से जांच के लिए नमूना संग्रहण का संशोधित लक्ष्य दिया गया है। पत्र के माध्यम से निर्देश दिया गया है कि अपने लक्ष्य के अनुरूप कोविड टेस्टिग कार्य सम्पन्न करें। राज्य में कोविड की पाजिटिविटी रेट में लगातार कमी को देखते हुये। आइसीएमआर के निदेश के अनुशरण में पुल टेस्टिग की जा सकती है।

सिविल सर्जन डा. जनार्दन प्रसाद सुकुमार ने कहा कि जांच में तेजी लाने के उद्देश्य से यह निर्णय लिया गया है। जितनी अधिक जांच होगी, कोरोना के खिलाफ लड़ाई उतनी ही मजबूत होगी। उन्होंने जिलावासियों से अपील करते हुए कहा कि अगर कोरोना के हल्के लक्षण भी दिखे तो कोविड-19 जांच जरूर कराएं। जितना जल्दी जांच होगी उतना ही जल्दी उपचार शुरू होगा। इससे स्थिति गंभीर होने से बच सकती है। साथ ही कोरोना का प्रतिशत भी कम होगा। बीमारी छुपाने से स्थिति गंभीर हो सकती है, इसलिए बीमारी छुपाएं नहीं।

स्वास्थ्य विभाग की टीम जिले के विभिन्न क्षेत्रों में रैपिड एंटीजन टेस्टिग के माध्यम से कोरोना टेस्ट करने का काम कर रही है। पर्याप्त मात्रा में एंटीजन किट के साथ लैब टेक्नीशियन की ड्यूटी लगाई गई है। शहरों, बाजारों और गांव में स्थान चिह्नित कर जांच की जा रही है। ----------------------

- कार्यपालक निदेशक ने लक्ष्य किया निर्धारित, आइजीआइएमएस में भेजा जाता है सारण का आरटी-पीसीआर जांच के लिए सैंपल

Edited By: Jagran