दिघवारा। पिछले 24 घंटे से गंगा के बढते जलस्तर में मंगलवार को कमी आई। खतरे के निशान से उपर बह रही गंगा के जलस्तर में 7 सेमी की कमी आई है ।जबकि गंगा नदी के उस पार अवस्थित अकिलपुर पंचायत के कई निचले इलाकों में पानी प्रवेश कर गया हैं। जिससे आम लोगों की मुश्किलें बढ़ गयी है।पंचायत के अकिलपुर,दुधिया,बाकरपुर व बंगलापर आदि गांवों के खेतों में पानी प्रवेश कर जाने से किसानों के फसल को खासा नुकसान पहुंचा हैं। वहीं दुधिया गांव में पानी प्रवेश कर जाने से लोगों को आवागमन में काफी दिक्कतें हो रही है औए कई जगहों पर कटाव तेजी से जारी है। पंचायत में जाने वाली पीसीसी सड़क का बड़ा हिस्सा कटाव के कारण गंगा में सम्माहित हो गया । पंचायत के वैसे क्षेत्र जहां पानी प्रवेश कर गया है वहां के स्कूलों में अघोषित छुट्टी का नजारा दिख रहा है। लोगों ने आरोप लगाया कि प्रशासन द्वारा गंगा नदी में अतिरिक्त नाव उपलब्ध नहीं कराया गया हैं, जिससे लोगों को दिघवारा जाने में परेशानी होती है। पंचायत के बीडीसी मुकेश कुमार , उप मुखिया सुरेश राय , भरत ¨सह आदि ने इस संबंध में विधायक डा. रामानुज प्रसाद से बचाव व राहत कार्य की गुहार लगायी है ।वहीं डीएम के निर्देश के आलोक में अकिलपुर पंचायत की स्थिति का जायजा लेने मंगलवार को सीओ जावेद आलम दियारा पहुंचे और पंचायत के विभिन्न गांवों का जायजा लिए और लोगों के साथ बातचीत कर हरसंभव प्रशासनिक सहयोग का भरोसा दिलाए। सीओ ने कहा कि जिस गांव में गंगा का पानी प्रवेश करेगा वहां के लोगों को प्रशासन द्वारा सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने के साथ उचित भोजन उपलब्ध कराया जायेगा। जल संसाधन विभाग के जेई एके त्रिपाठी ने बताया कि मंगलवार को गंगा का जलस्तर 7 सेमी घटा हैं। वहीं कोईलवर के पास सोन नदी में 58 सेमी की कमी आयी हैं। वहीं बक्सर के पास गंगा नदी में प्रतिघंटे एक से दो सेमी वृद्धि हो रही है। श्री त्रिपाठी के अनुसार गंगा नदी के जलस्तर में कमी आने से बाढ़ का अंदेशा कम हुआ है। बावजूद लोगो की माने तो इससे खतरा कम तो हुआ है लेकिन टला नही हैं ।

Posted By: Jagran