छपरा। भगवान बाजार थाना क्षेत्र स्थित भरत मिलाप चौक के समीप स्थित एक नर्सिंग होम से सीरियस मरीज को रेफर किए जाने के बाद उस मरीज की मौत रास्ते में हो गई। मौत के बाद परिजनों ने बुधवार को नर्सिंग होम पर जाकर हंगामा शुरू कर दिया। हंगामे की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया। हंगामे को देखते ही चिकित्सक एवं कर्मचारी क्लीनिक बंद कर वहां से हट गए। मृतक गोपालगंज जिला के बैकुंठपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत फैजुल्लाहपुर गांव निवासी स्वर्गीय जितेंद्र कुमार ¨सह का 19 वर्षीय पुत्र टुन्ना कुमार ¨सह बताया जाता हैं। टुन्ना फिलहाल मुफस्सिल थाना क्षेत्र स्थित दहियावां टोला मोहल्ला में रहता था। घटना के संबंध में बताया जाता है कि करीब डेढ़ वर्ष पूर्व उसका एक पैर टूट गया था। जिसका ऑपरेशन पुणे में कराया गया था। ऑपरेशन के दौरान वहां पर उसके पैर में स्टील रॉड लगाया गया था, जिसे निकलवाने के लिए वह भरत मिलाप चौक के समीप स्थित एक ऑर्थोपेडिक नर्सिंग होम में मंगलवार की सुबह भर्ती हुआ था। मंगलवार की शाम में चिकित्सक द्वारा ऑपरेशन कर उसके पैर से स्टील का रॉड निकाला गया। राड निकाले जाने के बाद युवक की स्थिति बिगड़ती गई। बुधवार की सुबह उसे चिकित्सक द्वारा पटना के लिए रेफर कर दिया गया। इस दौरान मरीज को लेकर परिजन सदर अस्पताल पहुंचे जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। जिसके बाद परिजन आक्रोशित हो गए और उस नर्सिंग होम में जाकर हंगामा करने लगे। इस दौरान चिकित्सक एवं कर्मचारी क्लीनिक बंद कर वहां से हट गए और इस बात की सूचना स्थानीय थानाध्यक्ष सुरेंद्र कुमार को दी। सूचना मिलते ही पुलिस बल मौके पर पहुंच गया और उसके बाद मामला शांत हो गया। परिजनों का आरोप था कि टुन्ना के पैर से रॉड निकालने के बाद उसकी स्थिति बिगड़ने लगी। उसकी मौत का कारण ऑपरेशन के दौरान चिकित्सक की लापरवाही हैं। वही नर्सिंग होम के चिकित्सक ने बताया कि युवक के पैर में इंफेक्शन हो गया था। जिसके कारण रॉड निकालने के बाद उसकी स्थिति बिगड़ते चली गई। उनके द्वारा पूरी रात मरीज की देखभाल की गई थी। सुबह में स्थिति गंभीर होने पर उसे पटना रेफर किया गया था। पटना जाने के क्रम में रास्ते में उसकी मौत हुई हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेने के बाद पोस्टमार्टम कराया।

Posted By: Jagran