समस्तीपुर । समस्तीपुर रेल मंडल में अलग-अलग महत्वपूर्ण परियोजनाओं के लिए इस बार 1230 करोड़ रुपये से अधिक की राशि मिली है। समस्तीपुर-दरभंगा रेलखंड के दोहरीकरण के लिए इस बार 90 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। दरभंगा-जयनगर रेलखंड पर विद्युतीकरण के लिए इस वित्तीय वर्ष में 47.20 करोड़ रुपये दिए गए हैं। इससे मिथिला क्षेत्र की दोनों परियोजना में तीव्र गति से कार्य हो सकेगा। आमान परिवर्तन के लिए जयनगर-दरभंगा-नरकटियागंज रेलखंड के लिए 20 करोड़ रुपये दिए गए हैं। जबकि, गत वर्ष 38.80 करोड़ रुपये दिया गया था।

समस्तीपुर-दरभंगा रेलखंड के 38 किलोमीटर के लिए 380 करोड़ रुपये की परियोजना के लिए मार्च 2018 तक 66 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं। पिछले बजट में भी इसके लिए 50 करोड़ रुपये दिए गए थे। इसके अतिरिक्त दरभंगा-जयनगर खंड के 80.35 करोड़ की विद्युतीकरण की परियोजना के लिए चालू वित्तीय वर्ष में 47.20 करोड़ रुपये की स्वीकृति मिली है। जबकि, 2018-19 में 12.20 करोड़ रुपये मिले थे। जिसमें से मार्च 2018 तक 14.15 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके थे। समस्तीपुर-दरभंगा-सीतामढ़ी-रक्सौल के 231 किलोमीटर रेलखंड पर 304 करोड़ रुपये की परियोजना में इस साल 45.47 करोड़ रुपये की स्वीकृति मिली है। मार्च 2018 तक इसमें 90.80 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। समस्तीपुर-खगड़िया रेलखंड के लिए 36.81 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। कोसी व सीमांचल क्षेत्र की परियोजनाओं में भी आएगी गति

समस्तीपुर रेल मंडल के कोसी और सीमांचल क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण परियोजनाएं इस बार रफ्तार पकड़ेंगी। रेल मंत्रालय ने आठ अलग-अलग परियोजनाओं के लिए 288.10 करोड़ रुपये की स्वीकृति दी है। सकरी-लोकहा बाजार-निर्मली-सहरसा-फारबिसगंज के 206.6 किलोमीटर लंबे रेलखंड के लिए 150 करोड़ रुपये दिए गए हैं। पिछले साल बजट में 400 करोड़ रुपये मिले थे। इसमें मार्च 2018 तक 351.57 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। बनमंखी- बिहारीगंज आमान परिवर्तन कार्य के लिए 15 करोड़ रुपये की राशि दी गई है। 193 करोड़ 56 लाख रुपये की लागत वाली कुरसेला-बिहारीगंज 35 किलोमीटर नई रेल लाइन निर्माण के लिए इस बार 10 लाख रुपये की राशि का प्रावधान किया गया है। वहीं 306 करोड़ 41 लाख से स्वीकृत 92 किलोमीटर वाली अररिया-सुपौल नई रेल लाइन के लिए पिछले साल की तरह इस बार फिर से एक करोड़ रुपये की राशि मिली है। हसनपुर-सकरी रेलखंड निर्माण को मिले 25 करोड़

हसनपुर-सकरी रेलखंड के 79 किलोमीटर के लिए 25 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। जबकि, पिछले वित्तीय वर्ष 45 करोड़ रुपये मिले थे। खगड़िया-कुशेश्वरस्थान रेलखंड निर्माण के लिए पांच करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। जबकि, कोसी पुल के लिए 20 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं। इसमें पिछले साल 46 करोड़ मिले थे। इसके अलावा दरभंगा बाइपास लाइन के लिए इस साल मात्र 19 लाख रुपये मिले हैं। 120 करोड़ की इस परियोजना के लिए पिछले वर्ष भी मात्र 10 लाख रुपये ही दिए गए थे। किसनपुर, रामभद्रपुर व हायाघाट स्टेशन पर तीसरी लाइन के लिए महज एक लाख रुपये का प्रावधान किया गया है। दरभंगा-मुजफ्फरपुर और दरभंगा-कुशेश्वरस्थान रेलखंड के लिए भी मात्र 10-10 लाख रुपये ही दिए गए हैं। इन परियोजनाओं को जीवित रखने का ही मात्र प्रयास किया गया है। सीतामढ़ी-जयनगर-निर्मली रेलखंड के लिए 10 लाख, अररिया-सुपौल नई लाइन के लिए एक करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

इसी तरह जयनगर-बिजलपुरा के लिए 120 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप