समस्तीपुर। हिन्दी विषय की तैयारी में लिखावट और शुद्धता पर पूरा ध्यान रखें। शुद्धता पर भी अंक मिलते हैं। इसके अलावा व्याकरण की तैयारी ठीक से करें। इससे वस्तुनिष्ठ, लघु और दीर्घ उत्तरीय प्रश्न भी पूछे जाएंगे। बीआरबी कॉलेज की हिदी विषय की प्राध्यापिका डा. स्नेहलता कुमारी ने उक्त जानकारी दी। बताया कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के तत्वावधान में आगामी एक फरवरी से परीक्षा संचालित होगी। बोर्ड का मॉडल पेपर जल्द जारी होगा। विषय पर पकड़ न होने से घबराने की जरूरत नहीं है। याद नहीं होने पर दो-तीन बार लिखें तो दिमाग में जरूर बैठ जाएगा। वस्तुनिष्ठ, लघु और दीर्घ उत्तरीय में प्रश्नों की संख्या अधिक रहने की संभावना है। उन्होंने छात्रों को लिखने का अभ्यास करने की सलाह दी। साथ में कहा कि वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को हल करने के लिए प्रत्येक पाठ को गहराई से पढ़ें। पत्र की तैयारी में औपचारिक और अनौपचारिक पत्र दोनों पर ध्यान दें। दो खंड में होंगे सवाल, दोनों से जवाब देना अनिवार्य

डा. स्नेहलता ने बताया कि प्रश्न पत्र दो खंडों में रहेगा। दोनों में प्रश्नों का जवाब देना अनिवार्य होगा। उन्होंने छात्रों को प्रत्येक दिन एक से दो घंटे तक लिखने का अभ्यास करने की सलाह दी। अंकों के विभाजन का प्रारूप :

खंड अ : 50 अंक

- गद्य एवं पद्य से प्रश्न पूछे जाएंगे।

- हिदी साहित्य का इतिहास से प्रश्न पूछे जाएंगे।

- व्यावहारिक हिदी से प्रश्न पूछे जाएंगे। खंड ब : 50 अंक

- व्याकरण - संधि और उसके भेद, समास और उनके उनके प्रकार, पदबंध वाच्य और उनके भेद, वाक्य-प्रकार, पारिभाषिक एवं तकनीकी शब्द संक्षेपण, मुहावरे और लोकोक्तियां, वाक्य संशोधन, उपसर्ग और प्रत्यय पूर्व पठित व्याकरण (लिग-निर्णय, पर्यायवाची शब्द, विलोम शब्द इत्यादि)।

- रचना - निबंध वार्ता (संवाद), टिप्पणी, पत्र लेखन अनेक रूप।

Edited By: Jagran