समस्तीपुर। जिले में वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की दर में गिरावट को देखते हुए परिवार नियोजन सेवाओं को नियमित करने का निर्णय लिया गया है। राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी डॉ. सज्जाद अहमद ने सिविल सर्जन को पत्र जारी कर आवश्यक दिशा-निर्देश दिया है। इसमें नियमित सेवा सामान्य होने तक योग्य दंपत्ति को महिला बंध्याकरण, पुरुष नसबंदी एवं आईयूसीडी की सुविधा प्रदान किया जाना स्थगित रखे जाने का निर्देश निर्गत दिया गया था। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के द्वारा 11 जुलाई 2021 को विश्व जनसंख्या दिवस के अवसर पर 27 जून से 10 जुलाई तक दंपत्ति संपर्क पखवाड़ा एवं 11 से 24 जुलाई तक जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा आयोजित करने का निर्देश दिया है। पुरुष नसबंदी व महिला बंध्याकरण की सेवाएं होगी शुरू

कोविड-19 की घटती संख्या को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है कि परिवार नियोजन कार्यक्रम के अंतर्गत सभी प्रकार की सेवाओं यथा- महिला बंध्याकरण, पुरुष नसबंदी एवं आईयूसीडी सहित सभी परिवार नियोजन सेवा को पूर्व की भांति नियमानुसार नियमित रूप से संचालित किया जाए। स्वास्थ्य केंद्रों पर परिवार नियोजन कार्यक्रम के अंतर्गत सभी प्रकार की सेवाओं को पूर्व की भांति नियमित रूप से संचालित किया जाए, जिसमें पीपीपी मोड अंतर्गत संबंधित संस्थान से भी नियमानुसार कार्य लिया जा सकता है। परिवार नियोजन की अस्थायी सेवाओं को करें सुनिश्चित

कार्यपालक निदेशक ने निर्देश दिया है कि सभी स्वास्थ्य संस्थानों पर यह सुनिश्चित किया जाए कि दैनिक गर्भ निरोधक गोली, साप्ताहिक गर्भ निरोधक गोली, आपातकालीन गर्भ निरोधक गोली, निरोध, गर्भ जांच किट एवं अंतरा की पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होनी चाहिए। इसके लिए आवश्यकतानुसार एफपीएलएमआईएस के माध्यम से मांग एवं आपूर्ति सुनिश्चित किया जाए। उक्त गर्भनिरोधक सामग्रियों की एएनएम व आशा के पास उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए। स्वास्थ्य संस्थानों में कंडोम बॉक्स एवं कंट्रासेप्टिव डिस्पले ट्रे में भी संबंधित गर्भ निरोधकों की आवश्यक मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। दो चरणों में पूरा होगा पखवाड़ा

कार्यक्रम को दो चरणों में मनाया जाना प्रस्तावित है, पहला चरण जनसंख्या जागरूकता पखवाड़ा सह दंपति संपर्क पखवाड़ा 27 जून से 10 जुलाई तक जो परिवार नियोजन के महत्व के बारे में लोगों की जागरूकता पर केंद्रित होगा और दूसरा चरण जनसंख्या स्थिरीकरण पखवाड़ा 11 से 24 जुलाई तक जो सेवा प्रावधान पर ध्यान केंद्रित करेगा। विकल्पों की टोकरी पर ग्राहकों की परामर्श में गतिविधियों के दौरान टेली परामर्श को प्राथमिकता दी जाएगी। गांव में भी लोगों को जागरूक करने के लिए नेहरू युवा केंद्र, स्थानीय गैर सरकारी संगठनों को सूचीबद्ध किया जाएगा।

Edited By: Jagran