समस्तीपुर । समाहरणालय सभागार में जिला समन्वय समिति की बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता जिलाधिकारी शशांक शुभंकर ने की। बैठक में सर्वप्रथम उत्पाद एवं पुलिस विभाग के द्वारा मद्य निषेद्य को लेकर किए गए कार्यो की समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान बताया गया कि जिले में कुल 4232 लोगों की गिरफ्तारी इस कानून के तहत की गई है। जिलाधिकारी ने पुलिस अधीक्षक को स्पीडी ट्रायल के माध्यम से जल्द से जल्द सजा दिलाने को कहा। इसके बाद पौधारोपण के लिए सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया। सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को वार्ड सदस्य के साथ बैठक कर पौधारोपण के लिए आकलन रिर्पोट एक सप्ताह के अंदर देने का निर्देश दिया। डीएम ने जीविकोपार्जन योजना की समीक्षा की। इसमें उन्होंने डीपीओ को आवश्यक निर्देश दिया।

बैठक की अगली कड़ी में जल जीवन हरियाली योजना की व्यापक समीक्षा की गई। डीएम ने अंचलाधिकारी को सभी 453 सार्वजनिक जलाशयों पर चल रहे अतिक्रमण वाद का निष्पादन 20 दिसंबर तक करने का निर्देश दिया। साथ ही सभी अनुमंडल पदाधिकारी, भूमि सुधार समाहर्ता को प्रतिदिन बैठक कर इसकी निगरानी करने को कहा। जिलाधिकारी ने अपर समाहर्ता को हर दूसरे दिन इसकी समीक्षा करने का भी निर्देश दिया। जल संचयन संरचनाओं के जीर्णोद्धार की समीक्षा के दौरान सभी प्रखंडों में सरायरंजन के नरघोघी के मॉडल के स्तर की संरचना का निमार्ण करने का निर्देश डीएम ने दिया। सभी जल संचयन योजनाओं के पानी की निकासी, भिडा का सुदृढ़ीकरण, सीढियों का निमार्ण कराने का भी निर्देश दिया है। जिलाधिकारी ने सार्वजनिक कुओं की जीर्णोद्धार की समीक्षा भी की। जिला पदाधिकारी ने कार्यपालक अभियंता, नगर परिषद, कार्यपालक अभियंता नगर पंचायत रोसड़ा एवं दलसिंहसराय तथा कार्यपालक अभियंता, पीएचईडी को अगले दो दिनों के अंदर पूर्ण आकलन करके जिले में अवस्थित सार्वजनिक कुओं का जीर्णोद्धार कार्य करने का निर्देश दिया हैं। सभी कार्य 20 दिसंबर तक पूर्ण करने को कहा। डीएम ने 38,901 सार्वजनिक चापाकलों में सोख्ता निर्माण कराने का निर्देश दिया। साथ ही यह भी कहा कि 19000 सोख्ता का निर्माण अगली समीक्षात्मक बैठक के पूर्व कर लेना है। बैठक की अगली कड़ी में सरकारी भवनों की छत पर वर्षा जल संचयन के निर्माण की समीक्षा की गई। सभी कार्यो को 23 दिसंबर तक पूर्ण करने का निर्देश दिया। जैविक खेती एवं टपकन सिचाई, सौर उर्जा प्रयोग की समीक्षा भी की गई। जिलाधिकारी ने कार्य के प्रति शिथिलता के के कारण बिथान एवं रोसड़ा के बीडीओ का वेतन बंद करते हुए स्पष्टीकरण पूछने का निर्देश दिया। साथ ही प्रखंड विकास पदाधिकारी मोरवा को स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया। बैठक में पुलिस अधीक्षक विकास बर्मन, अपर समाहर्ता विनय कुमार राय, उप विकास आयुक्त वरुण कुमार मिश्रा, जिला परिवहन पदाधिकारी, जिला भू-अर्जन पदाधिकारी, जिला वन पदाधिकारी, निदेशक, डीआरडीए समेत सभी संबंधित पदाधिकारी मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस