सहरसा। जिले में बाढ़ का कहर जारी है। धरातल पर हालांकि तीन लाख से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। परंतु, जिला प्रशासन ने एक सप्ताह बाद एक लाख सात हजार 530 लोगों को बाढ़ प्रभावित की सूची में शामिल किया है। आपदा विभाग द्वारा जारी सरकार को भेजे गए रिपोर्ट के अनुसार नवहट्टा, महिषी, सलखुआ एवं सिमरीबख्तियारपुर प्रखंड के 23 पंचायतों के 91 गांव के लोग और 2050 पशु बाढ़ से प्रभावित हैं। पूरे जिले में 47647 हेक्टेयर में फसलों की क्षति का रिपोर्ट भेजा गया है 35 झोपड़ी के ध्वस्त होने की सूचना के साथ इसका अनुमानित मूल्य एक लाख 43 हजार निर्धारित किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक अबतक 7881 पॉलिथीन सीट के अलावा पशुचारा का वितरण किया जा रहा है। लोगों के आवागमन के लिए 17 सरकारी और 146 निजी नाव लगाए गए हैं।

जिला प्रशासन के अनुसार अबतक एक भी लोग निष्क्रमित नहीं हुए और न ही जीआर का वितरण किया गया और न कहीं राहत शिविर व बाढ़ आश्रय स्थलों मे लोग निवास कर रहे हैं। आपदा प्रबंधन पदाधिकारी राजेन्द्र दास ने बताया कि बाढ़ से बचाव व सहाय्य हेतु प्रशासन पूरी तरह तैयार है। जिलाधिकारी स्वयं इसका पर्यवेक्षण कर रहे हैं। जिला प्रशासन किसी भी परिस्थिति का सामना करने के लिए पूरी तरह तैयार है। अंचलाधिकारियों द्वारा प्रतिदिन पंचायतवार समीक्षा कर रिपोर्ट भेजा जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस