सहरसा। बुधवार की सुबह जिले में भूकंप का झटका महसूस किया गया। झटका कम अवधि का रहने के कारण कुछ लोगों को जहां महसूस भी नहीं हुआ वहीं जिन्हें महसूस हुआ वो घर से निकलकर खुले जगहों पर भागकर पहुंच गये। थोड़ी देर के लिए मची अफरातफरी के बाद काफी देर तक लोग बाहर रहकर इंतजार करते रहे।

सुबह करीब 10:24 में अचानक धरती डोलने लगी। लोग जबतक कुछ समझ पाते तबतक धरती स्थिर हो गई। लेकिन लोगों के मन में भय समा गया। जिस कारण लोग घर से निकलने के लिए भागने लगे। कई लोगों ने बताया कि पंखा खुद हिलने लगा तब भूकंप का अहसास हुआ। नया बाजार निवासी अरूण कुमार, विनोद कुमार ने बताया कि घर में बैठे थे इसी दौरान टेबल हिलते देखकर चिल्लाते हुए घर से निकलकर भागे। राघव ¨सह ने बताया कि आफिस जाने के लिए निकल रहे थे झटका का एहसास होते ही सड़क पर आ गये। वहीं कई जगहों पर हॉस्टल में रह रहे बच्चों ने चिल्लाना शुरू कर दिया। कुछ लोगों का कहना था कि पिछली बार आए भूकंप के बाद झटका पर झटका आ रहा था। जिस कारण काफी देर तक बाहर खड़े रहकर इंतजार किये। जानकारी के अनुसार भूकंप की तीव्रता 5.6 आंकी गई। सोशल मीडिया पर छाया भूकंप भूकंप का झटका महसूस होते ही सोशल मीडिया पर यह छा गया। लोग अपने तरीके से भूकंप की चर्चा करते हुए पोस्ट कर रहे थे। हालांकि इसमें अफवाह भी फैलाया जा रहा था। जिला प्रशासन ने ऐसे अफवाहों से बचने की सलाह दी है।

बनमाईटहरी : भूकंप का झटका महसूस होते ही लोग भागकर घर से निकल गये। थोड़ी देर के लिए लोगों में अफरातफरी का माहौल बन गया। घर, बिजली पोल पर लगी बिजली तार कुछ देर तक हिलता रहा। प्रखंड के बनमा, हथमंडल, जमालनगर, परसबन्नी, परसाहा, मुंदीचक, प्रियनगर, रसलपुर, महारस, खुरेसान, घौरदौड़, तरहा समेत अन्य गांव में लोग काफी देर तक खुले जगहों पर खड़े रहे।

पतरघट : 10:24 बजे बूंदाबांदी के बीच भूकंप का झटका महसूस होते ही लोग घर छोड़कर भागने लगे। घर में लगे पंखा को हिलते देख लोगों को भूकंप का एहसास हुआ। चारपाई पर बैठे लोग घबराकर चिल्लाने लगे। लगभग पंद्रह सेकेंड भूकंप महसूस किया गया। प्रखंड क्षेत्र में कहीं से किसी भी तरह की घटना की सूचना नहीं है। बीडीओ दीपक राम तथा अंचल अधिकारी अनंत कुमार तथा ओपी अध्यक्ष रूदल कुमार भूकंप के संबंध में क्षेत्र से सूचना लेते रहे।

Posted By: Jagran