रोहतास। उच्च व उच्च माध्यमिक विद्यालयों में उपस्कर व प्रयोगशाला लैब की खरीद में बड़े पैमाने पर हुई हेराफेरी की जांच के लिए गठित टीम अब सक्रिय हो गई है। लोकायुक्त के आदेश पर डीएम द्वारा गठित तीन सदस्यीय कमेटी शीघ्र ही जांच प्रक्रिया को शुरू करेगी, जिससे कि घोटाले की पर्दाफाश हो सके। इसे ले शुक्रवार को स्थानीय शेरशाह सूरी इंटरस्तरीय विद्यालय में प्रधानाध्यापकों की डीईओ प्रेमचंद्र ने की। जिसमें प्रधानाध्यापकों से उपस्कर व प्रयोगशाला लैब खरीद से संबंधित पूरी सूची प्राप्त की गई।

डीईओ ने बताया कि लगभग दस वर्ष पूर्व माध्यमिक से उच्च माध्यमिक विद्यालय के रूप में उत्क्रमित 118 विद्यालयों में भवन निर्माण के अलावा उपस्कर खरीद व खेल मैदान के लिए प्रति विद्यालय लगभग 40 लाख रुपया मुहैया कराई गई थी। इसके अलावा दो वर्ष पूर्व 76 विद्यालयों को भी उपस्कर व प्रयोगशाला सामग्री खरीद के लिए राशि दी गई है। भवन निर्माण से लेकर सामग्री खरीद में बड़े पैमाने पर अनियमितता का मामला प्रकाश में आने के बाद लोकायुक्त ने गंभीरता से लेते हुए जांच कराने का आदेश दिया है। जिसके बाद एडीएम की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी गठित की गई है। जिसमें डीईओ व एक डीएसपी स्तर के अधिकारी को शामिल किया गया है। बैठक में प्रधानाध्यापकों से सामग्री खरीद व व्यय राशि से संबंधित सूची प्राप्त की गई। जल्द ही सूची को कमेटी के समक्ष रखी जाएगी, ताकि जांच प्रक्रिया शुरू की जा सके। बैठक में डीपीओ लेखा-योजना सत्यदेव सिंह, सहायक एनके झा समेत अन्य अधिकारी शामिल थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस