रोहतास। स्थानीय श्रीशंकर महाविद्यालय में पर्यावरण संरक्षण, महिला सशक्तीकरण समेत अन्य विषयों पर सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें वक्ताओं ने अपने-अपने विचार रखे। उद्घाटन प्राचार्य डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय ने किया। इस दौरान इन विषयों पर छात्रों के बीच वाद-विवाद सहित अन्य प्रतियोगिता आयोजित की गई। प्राचार्य ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण की समय की मांग है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण पर्यावरण आज खतरे में है व प्रदूषण दिन ब दिन अपना विकराल रूप लेते जा रहा है। पर्यावरण को संरक्षित रखना हम सब का दायित्व है। इसे कार्य को छात्र ही कर सकते हैं। पौधरोपण समेत अन्य पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में लोगों को जागरूक कर इसे बचाया जा सकता है। साथ ही महिला सशक्तीकरण मिथक नहीं यथार्थ है। कारण कि सृष्टि निर्माण से लेकर विकास तक में महिलाओं की भागीदारी बराबर की रही है। इसके बिना सभ्य व विकसित समाज की परिकल्पना नहीं की जा सकती है। इस वर्ग को उपेक्षित कर कभी भी न तो विकास की बात सोची जा सकती है न आगे बढ़ा जा सकता है। वहीं कॉलेज के अन्य शिक्षकों ने भी लोकतंत्र अभिशाप या वरदान व शिक्षा व्यवस्था की सुधार में समस्या व उसके निदान विषय पर अपना विचार प्रस्तुत किया। इसके अलावा डॉ. जमील अहमद, डॉ. अनिल कुमार ¨सह, डॉ. सुरेंद्र ¨सह, डॉ. एसएम सबाहुदीन के अलावा याचिका कुमारी, शनिकांत कुमार, अंकित कुमार, धर्मेंद्र कुमार यादव, शुभम कुमार यादव, निशु पांडेय, दीपक कुमार, अविछित कुमार शशांक कुमार, साक्षी कुशवाहा, सोलोनी कुमारी, अंकिता कुमारी, अंशु तिवारी, मैत्री राज, ¨पकी कुमारी, अंजली कुमारी, पूनम कुमारी, चंदन कुमार सोनी, नंदलाल कुमार समेत अन्य ने भी अपना विचार रखा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस