रोहतास। गत वर्ष स्थानीय सदर अस्पताल परिसर में दो से अधिक पार्क बनाए जाने का निर्णय लिया गया था। अस्पताल के औचक निरीक्षण में डीएम पंकज दीक्षित ने इसके लिए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को डीपीआर बनाने का निर्देश भी दिया था। इसके अलावा अस्पताल परिसर में कूड़ा-कचरा फेंकने वालों पर कार्रवाई करने की बात भी कही गई थी। जिसके लिए डीएम ने सीएस को अस्पताल परिसर में सीसीटीवी लगाने का निर्देश दिया था। लेकिन अब तक डीएम के निर्देश पर अमल नहीं हो सका है। जिससे अस्पताल परिसर में गंदगी फैली हुई है। अस्पताल के दिन बहुरने की जगी थी उम्मीद:

अधिकारियों की सक्रियता से लगा था कि शीघ्र ही सदर अस्पताल के दिन बहुरने वाले हैं न सिर्फ मरीजों व परिजन के लिए सुविधाएं बल्कि अस्पताल परिसर में पार्क निर्माण के साथ-साथ परिसर भी साफ सुथरा होने की उम्मीद जगी थी। साथ ही यहां वर्षों से जलजमाव की समस्या का स्थाई निदान के लिए बुडको व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को डीपीआर बनाने का निर्देश दिया गया था। लेकिन अस्पताल में अब भी जहां-तहां गंदगी फैली है। क्या है स्थिति :

सदर अस्पताल परिसर में जहां-जहां खाली जगह है, वहां अस्पताल कर्मियों के साथ-साथ बाहर के लोग भी कूड़ा-कचरा फेंकते हैं। इसके अलावा अस्पताल की चारदीवारी से सटे निजी मकान से भी परिसर में कूड़ा-कचरा फेंका जाता है। डीएम ने इसे गंभीरता से लेते हुए ऐसी सभी जगहों पर सीसीटीवी लगाने का निर्देश दिया था। ऐसे लोगों को चिह्नित कर गंदगी फैलाने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश भी दिया गया था। साथ ही अस्पताल परिसर में वार्ड संख्या 13 से आने वाले नाली के पानी पर भी रोक लगाने के लिए वार्ड पार्षद को कहा गया था। लेकिन स्थिति जस की तस बनी हुई है।

Posted By: Jagran