जागरण संवाददाता: सासाराम, रोहतास। जिले में बढ़ते अपराध से लेकर अवैध खनन पर रोक लगाने के लिए रात में पुलिस की गश्ती व्यवस्था का जायजा लेने के बाद शनिवार की रात एसपी आशीष भारती खुद ही सड़क पर उतर आए। एसपी ने शहर के पोस्ट ऑफिस चौक से लेकर अन्य चौक चौराहे पर वाहनों की जांच की। रोको-टोको अभियान के दौरान कई वाहनों की तलाशी ली गई। शहर में अचानक पुलिस की बढ़ी मुस्तैदी के कारण अवैध गतिविधियों में लगे लोगों में हड़कंप मच गया, वहीं नाइट पेट्रोलिग के बहाने चौराहों पर चाय की चुस्की लेने वाले पुलिसकर्मियों की बेचैनी भी बढ़ गई है।

बरसात व जाड़े के मौसम में शाम ढलते ही सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता है, जिसका लाभ उठाते हुए अपराधी अपने इरादतन अपराध को अंजाम दे डालते हैं। सेंधमारी से लेकर छिनैती, लूट व डकैती सहित हथियार व मादक पदार्थों की तस्करी जैसे 90 फीसदी अपराध रात के अंधेरे में होते हैं। ऐसे में अपराधियों के मंसूबे को नाकाम करने के लिए पुलिस गश्त करती है, लेकिन गश्त की मानिटरिग भौतिक तौर पर बिरले ही देखने को मिलती है।

आम अवाम में बढ़ा सुरक्षा बोध, सियासी गलियारों में भी रही चर्चा:

शनिवार की रात जिला मुख्यालय के पोस्ट ऑफिस चौक पर जो नजारा दिखा, उसकी चर्चा जिले के आम-अवाम सहित सियासी गलियारे तक जा पहुंची। पहले तो इस बात की चर्चा होने लगी कि शायद कोई बड़ा इनपुट पुलिस के हाथ लगी है और बड़ी सफलता के लिए पुलिस हरकत में है। इसके लिए दो पहिया से लेकर चार पहिया तक खंगालने जा रहे हैं। पुलिस ने अचानक वाहन चेकिग अभियान चलाया तो हड़कंप मच गया। ऑन ड्यूटी पुलिस अधिकारी सहित शहर के कोतवाल भी हरकत में दिखने लगे थे। इससे यह संदेश भी गया कि अब रात्रि गश्त में लापरवाह पुलिसकर्मियों की खैर नहीं है। रोहतास पुलिस कप्तान आशीष भारती के बारे में जानकार लोग बताते है कि नाइट पेट्रोलिग सहित थानों में औचक निरीक्षण इनकी दिनचर्या में शामिल है। कई जिलों में बेहतर पुलिसिग के पीछे कप्तान की यह रणनीति कारगर साबित हुई है। जिले में पिछले सात महीनें में शराब गांजा की तस्करों को दबोचने में भी कई सफलता हाथ लगी है। अब तक चार हजार से अधिक लोगों को जेल भेज चुके है।

Edited By: Jagran