रोहतास। छात्रों की पहचान उसके अनुशासन व संस्कार से होती है। यह सबकुछ विद्यालय प्रबंधन व अभिभावकों पर निर्भर करता है कि वे बच्चों को किस सांचा में ढालते हैं। केंद्रीय विद्यालय संगठन पटना परिक्षेत्र के सहायक आयुक्त डॉ. अनुराग यादव ने गुरुवार को स्थानीय केवि के सालाना निरीक्षण के दौरान यह बातें कही। इस दौरान असिस्टेंट कमिश्नर ने प्रार्थना सत्र से लेकर कक्षा संचालन तक के कार्यों में भाग ले शैक्षणिक गतिविधियों से अवगत हुए।

निरीक्षण के क्रम में सहायक आयुक्त ने विद्यालय प्रबंधन को व्यवस्था में व्याप्त खामियों को दूर करने का निर्देश दिया, ताकि छात्रों को केवि के अनुरूप बनाया जा सके। कहा कि छात्रों की पहचान के लिए परिचय पत्र होता है, जो बहुत ही अनिवार्य है। सहायक आयुक्त के आगमन पर विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम के अलावा नुक्कड़ नाटक प्रस्तुत कर भारतीय संस्कृति के विविध रूप का प्रदर्शन किया।

उन्होंने शिवसागर प्रखंड के करूप में बन रहे विद्यालय के भवन निर्माण का भी जायजा लिया व कार्य एजेंसी को मार्च 2018 तक इसे पूरा कराने का निर्देश दिया। असिस्टेंट कमिश्नर के साथ सीबी ¨सह, एचएस राजू ने भी स्थानीय विद्यालय के शैक्षणिक स्थिति का जायजा लिया। इस अवसर पर प्राचार्य आरपी राम समेत विद्यालय के अन्य शिक्षक उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप