सासाराम, रोहतास। धर्मग्रंथों में मानव जीवन को सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। अच्छे कर्म के बाद यह तन प्राप्त होता है। जिसकी सुरक्षा करना खुद की जिम्मेदारी व जवाबदेही होती है। कोरोना महामारी आज अपना विकराल रूप दिखा चुकी है, जिससे बचना हर किसी के लिए आवश्यक है। सरकार इस महामारी से लोगों को बचाने के लिए हर स्तर पर कोशिश भी कर रही है। अधिक से अधिक लोगों का टेस्टिग व वैक्सीनेशन का कार्य किया जा रहा है, ताकि कोरोना को हरा कर भारत को कोरोना मुक्त बनाया जा सके। इस दिशा में आम हो या खास। हर व्यक्ति बढ़चढ़ कर हिस्सा ले रहा है। देश को कोरोना मुक्त बनाने की अभियान अधिक प्रभावकारी बने इसे ले धर्मगुरुओं व प्रबुद्ध लोगों का भी सहारा लिया जा रहा है। धर्मगुरुओं द्वारा भी लगातार अपील की जा रही है, जिससे कि टीकाकरण अभियान पूरी तरह सफल हो सके। दैनिक जागरण टीकाकरण अभियान को जन-जन की आवाज बनाने की कोशिश में लगा हुआ है। इस कड़ी में धर्म गुरुओं से बातचीत कर उनके विचारों को लोगों तक पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। - जिदगी एक अनमोल चीज है। अच्छे कर्म के उपरांत मनुष्य का तन प्राप्त होता है। इसे सुरक्षित रखना सिर्फ सरकार की ही नहीं बल्कि हर व्यक्ति को भी है। कोरोना महामारी ने जिस तरह लोगों को अपने चपेट में ले रहा है, उसका एक मात्र उपाय वैक्सीनेशन है। इसलिए बिना किसी भ्रम व संदेह के कोरोना का टीका खुद को लगवाएं और इसके लिए दूसरों को भी प्रेरित करें। गायत्री परिवार भी इस दिशा में लगातार लोगों को जागरूक कर रहा है।

डॉ. दिनेश शर्मा, अध्यक्ष, अखिल विश्व गायत्री परिवार रोहतास

- सावधानी व सतर्कता के साथ दवा और दुआ जिदगी को सुरक्षित करने के लिए अहम है। कोरोना संक्रमण से बचाव को ले शुरू टीकाकरण का लाभ सभी को लेना चाहिए। थोड़ी सी लापरवाही जिदगी पर बहुत भारी पड़ सकती है। प्रतिदिन गिरिजाघरों में होने वाली प्रार्थना सभा के दौरान टीकाकरण के लिए लोगों से अपील करने का कार्य किया जा रहा है।

फादर बेन्नी मूलन, पादरी, कैथोलिक चर्च न्यू एरिया सासाराम

- कोरोना से मुक्ति का एक मात्र उपाय टीकाकरण है। सरकार के हर कार्य व अभियान जो जनहित में हो, उसका साथ देना हम धर्म गुरुओं का परम कर्तव्य है। कोरोना ने आज कई की जिदगी छिनी तो कई घरों की खुशियां ले ली है। ऐसी स्थिति में कोविड 19 का टीका लगवा अपनी जिदगी को लोग सुरक्षित बनाएं। आए दिन गुरुद्वारा में होने गुरु साहिब जी अखंड पाठ में पहुंचने वाले लोगों को टीकाकरण के प्रति प्रेरित भी किया जाता है।

-महंत बजरंगी दास, प्रबंधक प्राचीन ऐतिहासिक गुरुद्वारा गुरु का बाग

- यूनिसेफ के माध्यम से सभी धर्म गुरुओं की सहभागिता एवं सहयोग लेने के लिए परस्पर समन्वय स्थापित किया जा रहा है ताकि लोगों को जागरूक करने में इनका समर्थन प्राप्त हो सके। इसके लिए जल्द ही धर्म गुरुओं की बैठक की जाएगी ताकि उनका सहयोग लिया जा सके।

असजद इकबाल सागर, एसएमसी यूनिसेफ

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप