स्थानीय थाना क्षेत्र के गिरधरपुर गांव से बाहर अरुहीं पुल के पास सड़क पर सोमवार की देर लूटपाट कर रहे सड़क लुटेरों ने नाच देखकर बाइक से घर लौट रहे एक युवक की गोली मार हत्या कर दी। मृतक सत्येंद्र सिंह 40 वर्ष गिरधरपुर गांव के ही हरिहर सिंह का पुत्र था। घटना के बाद ग्रामीणों में रोष है। वे लोग पुलिस की रात गश्ती पर सवाल खड़ी कर रहे हैं। लुटेरों ने टेंपो सवार आधा दर्जन यात्रियों से भी लूटपाट की।

ग्रामीणों ने बताया कि सत्येन्द्र सिंह अपने ममेरे भाई कैमूर सोनहन थाना क्षेत्र के बड़का कझार निवासी शेषनाथ यादव के साथ अरूहीं गांव से नाच देखकर अपने गांव लौट रहे थे,तभी अरूही पुल के पास एक टेंपो पर सवार यात्रियों से सड़क लुटेरे लूटपाट कर रहे थे। सत्येंद्र को भी लुटेरे बाइक रोकने को कहा। लेकिन सत्येंद्र थोड़ा आगे बढ़ गए। डर से अपनी बाइक रोक वापस अपराधियों की तरफ लौट रहे थे तभी एक अपराधी ने उनपर गोली चला दी जो उनके गर्दन के पास जा लगी। जिससे घटनास्थल पर ही उनकी मौत हो गई । मौके पर मौजूद शेषनाथ यादव बाइक लेकर किसी तरह गांव में आकर घटना की सूचना मृतक के स्वजनों व ग्रामीणों को दी। वहीं ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल सासाराम ले गई। इसके बाद शव को परिजन को सौंप दिया। ग्रामीणों की मानें तो टेपों सवार लोगों से बदमाश मारपीट कर उनका सामान छीन लिया है। हालांकि वे भयवश पुलिस को इसकी सूचना नहीं दी। थानाध्यक्ष सुशांत कुमार मंडल ने टेंपो पर सवार लोगों से लूटपाट की घटना से इंकार किया है। कहा कि पुलिस मामले की छानबीन कर रही है । लुटेरों का पता लगाया जा रहा है। घटना के बाद मृतक के घर मे स्वजनों का रो - रोकर बुरा हाल है। ग्रामीणों की मानें तो पुलिस रात में गश्ती के नाम पर केवल मुख्य सड़क पर बालू लदे ट्रकों से वसूली करने में लगी रहती है। ग्रामीण क्षेत्रों में शायद ही कभी रात में गश्ती होती होगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस