पूर्णिया। ग्राम पंचायत रुपौली उत्तर के वार्ड 08 स्थित अनुसूचित जाति टोला के लोग बुनियादी सुविधाओं से वंचित हैं। करीब ढाई सौ की आबादी वाले इस टोले में एक भी छतदार मकान नहीं है। एक दशक पूर्व इंदिरा आवास के नाम पर आवंटित मकान जीर्ण-शीर्ण व आधे-अधूरे हालात में हैं। विनोद ऋषि, केनिया देवी, खेलनी देवी, गोनर ऋषि, बर्मी ऋषि आदि ने जानकारी दी कि 7 निश्चय योजना की शुरुआत उनके टोले में नहीं हुई है। सड़क के लिए टोले वासी तरस रहे हैं। इस गाव में अभी तक बिजली नहीं पहुंची है। बिजली के लिए लोग उपभोक्ता भी बने, बिजली के लिए सामूहिक रूप से आवेदन भी दिया गया, लेकिन आवेदन को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया। बताया गया कि वे लोग विकास के इस दौर में भी ढिबरी युग में जी रहे हैं। समस्याओं से परेशान ग्रामीण बोले कि एक माह में एक लीटर से भी कम किरोसीन उनलोगों को मिलता है, उससे डिबिया जलाते हैं। इमली देवी, सुनीता देवी, महंगी देवी आदि ने जानकारी दी कि टोले वासी सामाजिक सुरक्षा पेंशन से वंचित हैं। दो चार लोगों को ही पेंशन मिल रही है। मनरेगा से उनकी बस्ती में आजतक कुछ नहीं हुआ। काम नहीं मिलने के कारण लोगों को रोजी-रोटी के लिए दिल्ली, पंजाब, हरियाणा ही सहारा होता है। गली निर्माण कार्य के लिए वार्ड सदस्य को दिया 10 लाख रूपया पंचायत के मुखिया रंजीत कुमार उर्फ मुन्ना यादव ने बताया कि उक्त वार्ड में गली निर्माण कार्य हेतु वार्ड सदस्य को 10 लाख का चेक काटा गया है। बहुत से जरूरतमंदों को आवास योजना से लाभावित किया गया है। बिजली सुविधा बहाल करने हेतु विभागीय अधिकारियों को बार-बार कहा जा रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस