पूर्णिया। बैसा प्रखंड के अनगढ़ में अररिया जिला के जोकीहाट स्थित भूना निवासी मृतक ठेकेदार गुफरान मुस्तकीन ने पांच साल पूर्व पैथोलॉजी बंद कर ठेकेदारी का काम शुरू किया था। वे पहले लाइन बाजार के धर्मशाला रोड में संसार पैथोलॉजी चलाते थे। पैथोलॉजी के काम में अच्छी कमाई नहीं होते देख वह ठेकेदारी के काम से जुड़ गए। शुरुआती दौर से ही उन्हें काम मिलने लगा और वह आगे बढ़ने लगे। पहले ठेकेदारी का सारा काम स्वयं देखते थे फिर काम बढ़ने पर भाई सद्दाम को भी देखरेख में लगा दिया। इसके बाद दोनों भाई मिलकर पूर्णिया के अलावा अररिया और किशनगंज जिला में सड़क एवं पुल निर्माण का काम करने लगे। ठेकेदारी से कमाई होने के बाद लाइन बाजार शिव मंदिर के पास पुराने लॉज को तोड़कर नया आलीशान भवन का निर्माण शुरू किया और लग्जरी गाड़ियां भी खरीदी। इसके अलावा घर के सामने जमीन भी खरीदा था। बहुत कम दिनों में काफी सम्पत्ति अर्जित करने के कारण भी कई लोगों की नजरों में गुफरान मुस्तकीन खटक रहे थे। हालांकि लोगों का कहना है कि मुस्तकीन का स्वभाव काफी अच्छा था और किसी से उनका विवाद नहीं था। मुस्तकीन की गोली मारकर हत्या की घटना सुनने के बाद उसे जानने वाले हैरत में हैं कि आखिर मुस्तकीन ने किसी का क्या बिगाड़ा था।

पहले दिन शुरू किया था काम

पूर्णिया : ईद के मौके पर चार दिनों तक सड़क निर्माण काम बंद रहने के बाद गुरुवार को पहले दिन निर्माण काम शुरू हुआ था। ईद से दो दिन पहले और दो दिन बाद तक निर्माण कार्य बंद पड़ा था। मृतक के भाई मु. सद्दाम ने बताया कि चार किलोमीटर घुसमर से मोंगरा प्याजी तक सड़क निर्माण का कार्य पांच माह पूर्व शुरू हुआ था। यह निर्माण कार्य करीब ढ़ाई करोड़ की लागत से बनना था। उन्होंने बताया कि गुरुवार की सुबह वह ट्रैक्टर चालक को लेकर साइट पर गए थे। इसके बाद अररिया स्थित दूसरे साइट पर चले गए थे। उन्होंने बताया कि घुसमर साइट पर उसके भाई का जाने का कोई प्लान नहीं था। अचानक रात में वहां गए थे इसी दौरान घटना घटी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप