बनमनखी (पूर्णिया)। अनुमंडल मुख्यालय स्थित गोरेलाल मेहता महाविद्यालय, बनमनखी के दर्शनशास्त्र विभाग द्वारा कोविड 19 में शिक्षा के स्वरूप एक दार्शनिक विमर्श विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार का सफल आयोजन किया गया, जिसमें देश के बारह राज्यों से पांच सौ से अधिक प्रतिभागियों ने अपने को पंजीकृत कराया। कार्यक्रम का प्रसारण गुगल मीट पर किया गया।

वेबिनार के मुख्य संरक्षक सह पूर्णिया विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. राजेश सिंह ने अपने उद्बोधन में कोविड 19 महामारी का सूक्ष्मतापूर्वक विश्लेषण कर इसके प्रभाव पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि वित्त और शिक्षा व्यवस्था सर्वाधिक प्रभावित हुए हैं तथा हमें इन परिस्थितियों के अनुरूप अपनी शिक्षा व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने की आवश्यकता है। विशिष्ट अतिथियों का स्वागत करते हुए महाविद्यालय के प्रधानाचार्य प्रो. (डॉ.) अनंत प्रसाद गुप्ता ने कहा कि, भारतीय संस्कृति में शिक्षा का सर्वोत्कृष्ट स्वरूप गुरुकुल की संकल्पना है। उन्होंने वैदिक काल एवं महाभारत काल को विशेष रूप से उद्धृत किया।उन्होंने कहा कि, आज कोविड 19 से शिक्षण संस्थान बन्द से हो गए हैं। अत: वैकल्पिक शैक्षणिक अधिगम यथा - ई लर्निंग, वेब बेस्ड लर्निंग, वर्चुअल स्पेस लर्निंग, रिमोट लर्निंग, दूरस्थ गृह शिक्षा द्वारा शैक्षणिक गतिविधियों को जीवन्त करने का प्रयास उचित होगा। आमंत्रित विशिष्ट अतिथियों में बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के प्रो. डी बी चौबे ने मदन मोहन मालवीय द्वारा दिये गए स्वदेशी शिक्षा के प्रारूप और टेक्नोलाजी की आवश्यकता को समग्र शैक्षणिक विकास के लिए आवश्यक माना परंतु भौतिक विकास के साथ-साथ नैतिक विकास होना चाहिए, आध्यात्मिक विकास होना चाहिए। पटना विवि के प्रो. एन पी तिवारी ने कहा कि सच्ची विद्या अज्ञान से मुक्त करती है। प्राचीन परंपरा में शिक्षा की श्रवण पद्धति एक महान परंपरा थी। आज टेक्नोलाजी द्वारा शिक्षा के स्वरूप में परिवर्तन समय की मांग है, किन्तु यह परंपरागत पद्धति का विकल्प नहीं हो सकता। टी एम बी यू भागलपुर के प्रो. डॉ नागेन्द्र तिवारी ने विषम परिस्थितियो में छात्रों की पढ़ाई बाधित न हो इसके लिए ऑनलाइन क्लास के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं पर विचार प्रकट करते हुए काण्ट के बुद्धिवाद और अनुभववाद के समन्वय की तरह प्राचीन और आधुनिक शिक्षा का समन्वय आवश्यक माना। दिल्ली विवि की प्रो रीतू जायसवाल ने अपना विचार प्रकट किया कि, शिक्षा का स्वरूप सूचनाओं का संकलन नहीं अपितु समाज में रह रहे लोगों की परिस्थिति और चुनौतियों को जानकर उनसे संघर्ष और उनका समाधान भी है।पूर्णिया विवि के प्रो डुमरेंद्र राजन ने कहा कि शिक्षा शाश्वत सत्य की खोज करता है और सर्वांगीण विकास के लिए आज भी अरविद घोष, टैगोर, महात्मा गांधी, बुद्ध के शाश्वत चितनों को टेक्नोलाजी युक्त शिक्षा के साथ अपनाने की जरूरत हैं। कार्यक्रम का संचालन प्रोग्राम कोओर्डिनेटर और कन्वेनर गोरे लाल मेहता महाविद्यालय के क्रमश: डॉ विकास कुमार सहायक प्राध्यापक दर्शनशास्त्र और डॉ नूतन कुमारी सहायक प्राध्यापिका इतिहास ने संयुक्त रूप से किया, जबकि धन्यवाद ज्ञापन प्राध्यापक डॉ सोमेश गुंजन साहा द्वारा किया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस