पटना, जेएनएन। मानसून की पहली बारिश के बाद शनिवार को राजधानी पटना के कई प्रमुख मोहल्लों और सड़कों पर फिर जलजमाव की स्थिति बन गई। इस बार वजह शहर में विकास के नाम पर खोदे गए गड्ढे बने। कुछ इलाके अब भी वैसे हैं, जहां निगम की लाख कोशिशों के बाद भी देर शाम तक जल निकासी संभव नहीं हो सकी। इनमें गांधी मैदान के चारों तरफ का इलाका और न्यू बाईपास के आसपास बने मोहल्ले शामिल हैं।  मूसलाधार बारिश के बाद ही पता चलेगा कि पटना नगर निगम कसौटी पर कितना खरा उतरा।

निगम के स्वर अलग

पटना नगर निगम व पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड की जनसंपर्क अधिकारी हर्षिता सिंह का कहना है कि पिछले साल की अपेक्षा इस बार शहर में कहीं जलजमाव की शिकायत नहीं मिली। हमने पूरी तैयारी कर रखी है। विशेष टीम बनाई गई है। उपकरण भी आ गए हैं। कुछ जगह गड्ढे खोदे जाने की वजह से पानी भर गया है। सफाई निरीक्षक लगातार क्षेत्र में भ्रमण कर जल निकासी कराते रहे।

मालूम हो कि मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार, शनिवार को मानसून ने दस्तक दे दी। शुक्रवार रात से ही मौसम का मिजाज बदला और रुक-रुककर तेज बारिश हुई। हवा भी तेज चली। शनिवार को सुबह से रात तक कभी तेज तो कभी रिमझिम बारिश होती रही। इस स्थिति में वैसे मोहल्लों में जलजमाव के हालात पैदा हो गए, जहां नमामि गंगे योजना के तहत नाला निर्माण का कार्य हो रहा। नाले के लिए खोदे गए गड्ढों में बारिश का पानी भर गया और वह सड़क पर आ गया। ट्रांसपोर्ट नगर डीएवी के सामने मुख्य सड़क पर बारिश के बाद फिसलन हो गई।

बाइक सवार हुआ ज्यादा चोटिल

इससे लोगों का चलना मुश्किल हो गया। बाइक सवार फिसलन की वजह से गिरकर चोटिल हो रहे। यही स्थिति मौर्य विहार कॉलोनी, रामकृष्ण नगर और गर्दनीबाग के कुछ मोहल्लों की है। इंद्रपुरी की मेन रोड पूरी तरह डूब गया। बोङ्क्षरग रोड में बसावन पार्क में एड़ी तक जलजमाव हो गया है। कंकड़बाग में चांगड़, अशोक नगर और चंदन ऑटोमोबाइल शोरूम के पीछे वाली सड़क में भी जलजमाव हुआ, लेकिन बारिश समाप्त होने के बाद निकाल लिया गया। वीणा सिनेमा के पास भी बारिश के बाद जलजमाव की स्थिति बनी। रामगुलाम चौक से जेपी गोलंबर तक देर शाम तक जल निकासी नहीं होने के कारण वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Akshay Pandey