पटना, काजल। लोकसभा चुनाव और उसके नतीजों के बाद पीएम मोदी की कैबिनेट के शपथ ग्रहण समारोह के बाद बिहार की राजनीति तेजी से बदल रही है। बदल रही परिस्थितियों में जहां एक ओर इफ्तार पार्टी ने कयासों को हवा दे दी है तो वहीं आज केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्वीट कर नया शिगूफा छोड़ दिया है जिसपर बवाल मच गया है। जदयू ने उनके ट्वीट का करारा जवाब दिया है तो उसमें हम, कांग्रेस और राजद नेताओं ने भी जदयू की हां में हां मिलायी है।

गिरिराज सिंह ने रामविलास पासवान और जीतनराम मांझी की इफ्तार पार्टी की तस्वीरें पोस्ट करते हुए ट्वीट कर लिखा है कि कितनी खूबसूरत तस्वीर होती जब इतनी ही चाहत से नवरात्रि पे फलाहार का आयोजन करते और सुंदर सुदंर फ़ोटो आते??...अपने कर्म धर्म मे हम पिछड़ क्यों जाते और दिखावा में आगे रहते हैं???

जदयू ने दिया गिरिराज को करारा जवाब

उनके इस ट्वीट पर जदयू नेता नीरज कुमार ने कहा है कि  देश संविधान से चलता है और बिहार में सभी धर्मो का सम्मान होता है। हर व्यक्ति को धार्मिक स्वतंत्रता मिली हुई है। हमारा भाव सहिष्णुता, करुणा और दया है। 

नीरज कुमार के बाद जदयू नेता अशोक चौधरी ने भी गिरिराज सिंह को करारा जवाब देते हुए कहा है कि जब चुनाव का समय था तो गिरिराज सिंह नीतीश कुमार को 10 बार फोन करते थे कि उनके लिए सभा की जाए। आज नीतीश कुमार की बदौलत ही वह 4 लाख से ज्यादा वोटों से जीते हैं, लेकिन अब नीतीश कुमार को लेकर वे इस तरह के बयान दे रहे हैं। ये ठीक बात नहीं है।

गिरिराज सिंह ट्वीट पर जदयू नेता श्याम रजक ने जुबानी हमला करते हुए कहा कि 'गिरिराज सिंह केंद्रीय मंत्री बनाये गए हैं वे अपना काम करें। काम करने के बदले बयान देकर चेहरा ना चमकाएं। सुशील मोदी भी करते हैं इफ्तार का आयोजन।

गिरिराज के ट्वीट पर जदयू नेता संजय सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि गिरिराज जी, हिन्दू का मतलब हिंसा नहीं होता है। हम ढोंग नहीं करते, ना ही हमें दिखावा करते हैं। देश उन्माद से नहीं चलता है। भारत खूबसूरत देश है, जहां सभी धर्मावलंबी रहते हैं। हम नवरात्र में फलाहार करते हैं और रमजान में इफ्तार करते हैं। पीएम ने कहा था नफरत की भाषा पर लगाम लगाएंगे तो एेसे में गिरिराज सिंह के बयानों को गंभीरतापूर्वक ले बीजेपी।

हम पार्टी ने भी जतायी नाराजगी

गिरिराज सिंह के ट्वीट पर हम ने भी पलटवार किया है। पार्टी के प्रवक्ता डॉक्टर दानिश रिजवान ने कहा है कि गिरिराज बताएं कि वे नवरात्र पर कब दिए थे फलाहार की दावत? धार्मिक मामलों पर हस्तक्षेप करने से बचें गिरिराज सिंह। नीतीश कुमार सेक्‍युलर नेता हैं, उन पर टिप्पणी करना कहीं से ठीक नहीं है।

राजद ने भी गिरिराज पर कसा तंज

गिरिराज सिंह के बयान पर राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने भी तंज कसा है और कहा है कि गिरिराज सिंह का आवरण तो धर्म का है, लेकिन कर्म अधर्म का है। 

कांग्रेस ने कहा-गिरिराज का ये ट्वीट मंत्रिमंडल विस्तार का रिएक्शन है

कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि गिरिराज सिंह का ये ट्वीट नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल विस्तार का रिएक्शन है। उन्हें क्या जरुरत पड़ी थी एेसा ट्वीट करने की, लेकिन अब लग रहा है कि उनके गठबंधन में सब ठीक नहीं और या तो वे दिखाना चाहते हैं कि वो हिन्दुओं के बड़े नेता हैं। लगता है कि विधानसभा चुनाव नए समीकरण के तहत होना है।

गिरिराज सिंह विवादित ट्वीट और विवादास्पद बयानबाजी के लिए मशहूर हैं। एेसे में आज के उनके ट्वीट के कई मायने निकाले जा रहे हैं। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप