पटना, जेएनएन। Durga Puja 2019:  राजद सुप्रीमो व बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव और पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार उनकी चर्चा किसी घोटाले को लेकर नहीं है और न ही लालू यादव के खराब स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर है। इस बार उनकी चर्चा कोर्ट में सुनवाई को लेकर भी नहीं है। हां, इस दुर्गापूजा में उन्‍हें 'देवी-देवता' बना दिया गया है। यही नहीं, राबड़ी देवी को 'राजमाता' बताया गया है। वहीं पंडाल के अंदर लालटेन से सजाया गया है। लालू-राबड़ी की प्रतिमाओं के हाथ में भी लालटेन को दिखाया गया है। बता दें कि लालटेन राजद का चुनाव चिह्न है। 

झारखंड की एक पूजा समिति ने रांची में दुर्गा पंडालों में राबड़ी देवी और लालू यादव को 'देवी-देवता' के रूप में प्रतिष्‍ठापित किया है। इसे लेकर वहां के श्रद्धालुओं में काफी नाराजगी है। बताया जाता है कि पुजारी भी नाराज है। वहीं राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) की ओर से ट्वीट भी किया गया है और इस पर अंगुली उठाने वाले लोगों पर हमला भी किया गया है।

बताया जाता है कि रांची के नामकुम में नवयुवक संघ की ओर मां दुर्गा की प्रतिमा को स्‍थापित किया गया है। नवयुवक संघ की ओर से आकर्षक पंडाल बनाए गए हैं। सप्‍तमी को ही मां दुर्गा के पट खुल गए हैं। श्रद्धालुअों की भीड़ वहां उमड़ रही है। लेकिन इस पूजा पंडाल में भक्ति संग सियासत का तड़का भी देखने को मिल रहा है। इस पूजा पंडाल में बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव और पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी की प्रतिमाएं भी देवी-देवताओं की प्रतिमा के संग लगाई गई हैं। बताया जाता है कि इसे लेकर वहां आनेवाले श्रद्धालुओं में काफी नाराजगी है। साथ ही पुजारी ने भी नाराजगी जताई है।   

इधर राष्‍ट्रीय जनता दल की ओर से इसे लेकर ट्वीट किया गया है। लालू-राबड़ी की प्रतिमाओं को टैग करते हुए राजद ने ट्वीट किया है- 'रांची, झारखंड के नवयुवक संघ को राजद परिवार तहेदिल से आभार प्रकट करता है कि आपने गरीबों, उपेक्षितों, उत्पीडितों, उपहासितों, वंचितों के मसीहा लालू जी के सामाजिक कार्यों को कला के माध्यम से रेखांकित करने का सराहनीय कार्य किया है। आप इसके लिए बधाई के पात्र हैं। आपको ढेर सारी शुभकामनाएँ।' 

इतना ही नहीं, राजद की ओर से एक और ट्वीट किया गया है और मीडिया की ओर से उठाए गए सवाल पर चोट की गई है। दूसरा ट्वीट में उसने लिखा है-  'आसाराम की पूजा की जा सकती है। राम-रहीम की पूजा की जा सकती है। चिन्मयानंद की पूजा की जा सकती है। पर विवाद तब उठता है जब हाथ जोड़ दुर्गा के सामने खड़े लालू जी और राबड़ी देवी जी की प्रतिमा लगा दी जाती है। विवाद तब उठता है जब कमल की जगह सजावट के लिए पंडाल में लालटेन लगा दिया जाता है।'  

उधर, जब यह बात सत्‍ता के गलियारे में आई तो पंडाल के आयोजक ने सफाई दी। राजद महासचिव सह पंडाल आयोजक ने कहा कि इसमें कुछ भी गलत नहीं है। उन्‍होंने कहा कि लालू-राबड़ी प्रतिमा के रूप खुद एक भक्‍त की तरह हाथ जोड़े हुए हैं। वे मां दुर्गा से गुहार लगा रहे हैं। बता दें कि झारखंड में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है अौर प्रतिमाओं को चुनाव में फायदे के लिए लगाये जाने की बात कह रहे हैं। बहरहाल, मां दुर्गा के साथ लालू-राबड़ी की प्रतिमाओं के लगाए जाने को लेकर स्‍थानीय लोगों में नाराजगी है।  

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप