पटना [राज्य ब्यूरो]। बक्सर जिले के डुमरांव में भूख से दो बच्चियों की मौत का मुद्दा उठाते हुए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राज्य और केंद्र सरकार को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की। साथ ही उन्होंने आरएसएस पर भी हमला बोला और कहा कि ऐसे संगठन का देश भर से सफाया कर देना चाहिए।
आरएसएस व जदयू पर हमला
तेजस्वी ने बुधवार को आरएसएस के कार्यक्रमों में बाहरी नेताओं को बुलाए जाने पर कहा कि संघ के लोग तिकड़म में लगे रहते हैं। ये लोग तिरंगा विरोधी हैं और देश में अपना संविधान लागू करना चाहते हैं। राज्य में विधि-व्यवस्था के मुद्दे पर तेजस्वी ने जदयू पर भी हमला बोला और कहा कि जदयू के लोग अपराध बढ़ा रहे हैं और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उन्हें संरक्षण दे रहे हैं।
मॉब लिंचिंग का हब बना बिहार
अपराध के मुद्दे पर तेजस्वी ने कहा कि जिस तरह से मॉब लिंचिंग की घटनाएं सामने आ रही हैं उससे लगता है कि बिहार मॉब लिंचिंग का हब बन गया है। अपराधी घटनाओं को अंजाम देकर बेखौफ घूम रहे हैं और उस पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है।
भूख से मौत को दबाने में लगा प्रशासन
बक्सर जिले के डुमरांव में भूख से दो बच्चियों की मौत का मुद्दा उठाते हुए तेजस्‍वी ने कहा कि राजद ने वरिष्ठ नेता जगदानंद सिंह एवं प्रदेश प्रधान महासचिव आलोक मेहता के नेतृत्व में एक जांच टीम को पार्टी ने मौके पर भेजा था। उन्होंने कहा कि बच्चों की मौत के मामले को प्रशासन लगातार दबाता रहा, जबकि मां बार बार कह रही थी कि उनके बच्चे भूख से तड़प-तड़पकर मरे हैं। अगर प्रशासन यह कह रहा है कि भूख से मौत नहीं हुई तो अगले दिन 20 किलो गेहूं और 20 किलो चावल क्यों दिया गया? इससे साबित होता है कि घर में भोजन नहीं था, जिससे बच्चों की जान चली गई। सरकार इस पर चुप क्यों है?

Posted By: Amit Alok