पटना [जेएनएन]। बिहार के बाढ़ प्रभावित इलाकों का जायजा लेने आज पीएम मोदी बिहार दौरे पर आए थे। हवाई सर्वेक्षण करने के बाद उन्होंने बैठक की और बाढ़ की विभीषिका झेल रहे बिहार को 500 करोड़ की सहायता राशि दी। इसके बाद बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर तंज कसा और कहा कि यूपीए की सरकार ने तो 2008 में आयी बाढ़ के लिए बिहार को 1100 करोड़ की राहत राशि दी थी।

तेजस्वी ने अगले ट्वीट में नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए लिखा है कि नरेन्द्र मोदी बिहार में अपने अपमान का बदला ले रहे हैं, आगे आने वाले वक्त में मोदी नीतीश से सारे बदले लेंगे। बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने लिखा, ‘ प्रधानमंत्री जी ने मुख्यमंत्री नीतीश जी का पटना में भोज ठुकराया। सारे बदले लिए जायेंगे धीरे-धीरे।’

पीएम मोदी बिहार में बाढ़ का जायजा लेने के लिए बाढ़ प्रभावित इलाके के दौरे पर पटना आए थे। वहां से उनको तय कार्यक्रम के मुताबिक पटना में सीएम आवास जाना था जहां पीएम मोदी नीतीश के साथ दोपहर का भोजन करना था। लेकिन, अब इसे रद्द कर दिया गया है। दरअसल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा पीएम मोदी को दिया जाने वाला ये भोज कई मायनों में खास था।

क्यों अहम था नीतीश का ये भोज?

बात  जून 2010 की है। तब बिहार में जेडीयू और बीजेपी सत्ता में थी। पटना में बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हो रही थी और वहां पर बीजेपी के कद्दावर नेता मौजूद थे। इस दौरान गुजराज के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी भी वहां पहुंचे थे। बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने बीजेपी नेताओं के डिनर का आयोजन किया था।

इस बीच पटना के अखबारों में एक तस्वीर छपी जिसमें नरेन्द्र मोदी ने बाढ़ प्रभावित बिहार को दिये मदद का वर्णन किया था, कई लोगों की नजर में मोदी ने इस मदद को बढ़ा चढ़ा कर पेश किया था। इस विज्ञापन को देखकर नीतीश बेहद नाराज हुए। नीतीश इतने उखड़े कि उन्होंने इस डिनर को ही कैंसिल कर दिया।

इसके बाद नीतीश कुमार और नरेन्द्र मोदी के बीच संबंधों में कड़वाहट भर गयी। तब नीतीश कुमार यहीं नहीं रुके थे उन्होंने 2008 के कोसी बाढ़ पीड़ितों के लिए नरेन्द्र मोदी द्वारा दिये गये 5 करोड़ के मदद को भी ठुकरा दी थी।

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप