पटना, जेएनएन। Tejashwi targets Nitish after Prashant Kishor: बिहार में कोरोना संकट खत्‍म नहीं हो रहा है। संक्रमितों की संख्‍या 10 हजार को पार कर गयी है। इसे लेकर बिहार में सियासत भी तेज है। एक बार फिर नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने बुधवार को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को निशाना बनाया है। आरोप लगाया है कि बिहार के 12 करोड़ लोगों के हेल्‍थ के साथ बिहार सरकार खिलवाड़ कर रही है। बता दें कि इसके पहले पाॅलिटिकल गलियारे में पीके के नाम से फेमस प्रशांत किशोर ने इसी मुद्दे पर नीतीश सरकार को घेरा था।  

नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव की ओर से जारी किए गए प्रेस बयान में सीएम नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा कि कोरोना काल में देश की सबसे अक्षम बिहार सरकार 12 करोड़ बिहारियों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। उन्‍होंने कहा कि चार महीने बाद भी बिहार कोरोना जांच में सबसे पीछे है। संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ रहा है। कोई नया कोविड अस्पताल नहीं बन पाया, ना ही रैंडम सैंपलिंग (sampling) हो रही है। सरकार ने जांच नहीं तो केस नहीं का फॉर्मूला अपना रखा है। 

उन्‍होंने कहा कि हमने शुरू से ही आगाह किया कि जांच की गति और दायरा बढ़ाया जाए। सीएम ने वादा किया कि 10 हज़ार जांच प्रतिदिन की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कुछ हफ़्ते पहले पीएम मोदी को 20 हज़ार जांच करने का भरोसा दिलाया था। हकीकत ये है कि बिहार जैसे प्रदेश में आज भी औसत जांच 5 हजार से कम है। आपदाकाल में झूठ बोलना महापाप है। उन्‍होंने आरोप लगाया कि कम जांच करने के पीछे सीएम की मंशा कम संक्रमण दिखाने की है, लेकिन इससे ख़तरा आमजनों को है। आंकड़ों की बाज़ीगरी से सरकार वास्तविकता छुपा सकती है, लेकिन विस्फोटक होती स्थिति को काबू करने का कोई उपाय नहीं है। बिहार में कुल जांच में पॉज़िटिव मरीजों का प्रतिशत 4.48 है, जो कि खतरे की घंटी है‬।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस