पटना [राज्य ब्यूरो]। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव करीब आते ही राहुल गांधी वहां के मठ-मंदिरों में दर्शन करते दिखने लगे। गुजरात के चुनाव में एक तरफ वे जनेऊधारी हिंदू बन कर वोट मांग रहे थे, तो दूसरी तरफ हिंदू विरोधी ताकतों के समर्थन से सत्ता पाने की कोशिश में भी लगे थे।

मोदी ने कहा कि कर्नाटक में उनकी पार्टी हिंदू धर्म के लिंगायत पंथ को अलग धर्म का दर्जा देने की बात कर रही है। उन्होंने कहा कि मौसमी आस्तिकता से किसी का भला नहीं होता। बिहार के किसी मंदिर में आने से पहले वे लालू प्रसाद से पूछेंगे या 2019 का इंतजार करेंगे।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ और चुनाव में एक समानता है। एक घटना जहां नदियों की प्राकृतिक सफाई का कारण बनती है, वहीं दूसरा अवसर विभिन्न दलों के कचरे को बाहर निकलने का रास्ता देता है। जिस विधायक ने कभी राजधानी एक्सप्रेस में महिला यात्री के साथ छेड़छाड़ कर अपने दल को शर्मसार किया था, उसने बिहार में उपचुनाव की घोषणा होते ही उससे निकल कर ऐसे दल की सदस्यता से ली, जहां घोटाला, बेनामी सम्पत्ति से लेकर अश्लील नाच-गाना तक- किसी भी बात में शर्म महसूस नहीं की जाती। उन्होंने कहा जिसकी जैसी प्रवृत्ति होती है, वह देर-सबेर स्वाभाविक मित्र के पास चला ही जाता है।

By Ravi Ranjan