पटना [राज्य ब्यूरो]। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि बिहार में एईएस बुखार से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए केंद्र और राज्य की सरकार ने मिल कर पूरी तत्परता से काम किया। इससे 490 बीमार बच्चों में अधिकतर का इलाज किया गया। 140 मासूमों की जान बचाई गई, लेकिन दुर्भाग्यवश लगभग इतने ही बच्चों को बचाया नहीं जा सका। 

मोदी ने आज टवीट करके कहा कि सिस्टम में जहां कमी रह गई, उस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख व्यक्त किया और इस चुनौती का सामना करने का संकल्प व्यक्त किया। उन्होंने कहा हमें विश्वास है कि आगे आने वाले दिनों में केंद्र और राज्य सरकार के प्रयासों से बिहार को बच्चों के लिए पहले से ज्यादा सुरक्षित बनाया जा सकेगा। 

मोदी ने एक अन्य टवीट में कहा कि तीन तलाक जैसी कुप्रथा पर रोक लगाने की संवैधानिक पहल को धार्मिक या चुनावी राजनीति के नजरिये से देखने के बजाय इसे महिला सशक्तीकरण के व्यापक नजरिये से देखा जाना चाहिए। जो दल अब तक इस पर कांग्रेस की तरह सोच रहे हैं वे कांग्रेस की ही तरह मुस्लिम महिलाओं के साथ न्याय करने का तीसरा मौका भी खो देंगे। 

मोदी ने कहा गैरकांग्रेसी दलों को डाॅ लोहिया की तरह राजनीतिक साहस दिखाना चाहिए और मुस्लिम महिलाओं को तलाक की प्रताडऩा से निजात दिलाने में सहयोग करने की राष्ट्रपति की अपील का आदर करना चाहिए।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस