पटना [जेएनएन]। दरभंगा जिले में हुई भाजपा कार्यकर्ता के पिता की हत्या को मोदी चौक बनवाने के नाम पर हुई हत्या के आरोप को खारिज करते हुए भाजपा नेता और बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि इस हत्या के पीछे जमीनी विवाद है। उसका मोदी चौक के नाम से कोई संबंध नहीं है।

सुशील मोदी ने ट्वीट कर बताया कि यह आरोप पूरी तरह से गलत है कि दरभंगा में हुई हत्या मोदी चौक नाम रखने की वजह से हुई है। यह जमीन विवाद का मामला है। मोदी चौक नाम का बोर्ड यहां पर बहुत पहले से लगा हुआ है। हत्या का बोर्ड से कोई लेना-देना नहीं है।

इतना ही नहीं, उप-मुख्यमंत्री के अलावा दरभंगा के एसएसपी सत्य वीर सिंह ने भी कहा है कि यह जमीन विवाद का पुराना मामला था और इसका नरेंद्र मोदी चौक नाम रखने से कोई संबध नहीं है। उन्होंने अपनी निजी जमीन का नाम मोदी चौक रखा था। एसएसपी ने यह भी कहा कि भाजपा कार्यकर्ता के बेटों को भी बुरी तरह पीटा गया। उन्होंने दावा किया कि गांव में अब कोई तनाव नहीं है।

बता दें कि शुक्रवार की शाम को दरभंगा में भाजपा कार्यकर्ता के पिता की अपराधियों ने तलवार से टुकड़े-टुकड़े काटकर उनकी हत्या कर दी थी। भाजपा कार्यकर्ता कमलेश यादव के घर 40-50 लोग तलवार लेकर पहुंचे और परिवार के सदस्यों पर हमला कर दिया। इस हमले में उनके पिता का सिर काट दिया गया जबकि उनके भाई गंभीर रूप से घायल हो गए थे। 

वहीं, मृतक के एक परिजन ने  साफ शब्दों में कहा कि मोदी समर्थक होने के कारण हमारे साथ ऐसा हुआ। उन्होंने कहा देश में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद उसके पिता ने अपने गांव के एक चौक का नाम नरेंद्र मोदी चौक रख दिया, जिसके बाद कुछ लोग पूरे परिवार से खफा हो गए और बीच-बीच में उनकी पिटाई होती रहती थी। 

पीड़ित परिवार का दावा है कि गांव अल्पसंख्यक बाहुल्य होने की वजह से 'मोदी चौक' नाम लोग को पसंद नही थे, लेकिन बिहार उप चुनाव के परिणाम में जीत के बाद महागठबंधन के कुछ लोग अति उत्साहित होकर बीती रात नरेंद्र मोदी चौक पर पहुंचे ओर प्रधानमंत्री का नाम लेकर प्रधानमंत्री को अपमानित करने लगे। जिसका विरोध रामचंद्र यादव के परिवार वाले करने लगे। देखते ही देखते जल्द ही बात मारपीट में बदल गई। 

बवाल बढ़ता देख समर्थक वापस भाग गए और कुछ देर बाद रात में अचानक 40-50 की संख्या में तलवार, लाठी-डंडों के साथ अचानक पहुंच कर मार पीट करने लगे। तलवार से हुए हमले में कमलदेव यादव बुरी तरह घायल हो गये जबकि उन लोगों ने कमलदेव के पिता रामचंद्र यादव को तलवार से गर्दन पर वार कर उनकी हत्या कर दी।   

मृतक के परिजनों ने तो यह भी आरोप लगाया की जब दो साल पहले मोदी की तस्वीर लगाई गई थी तब भी इसके परिवार के एक शख्स की हत्या कर दी गई थी, साथ ही आने वाले दिनों में एक के बाद एक मोदी समर्थक के परिवार की अर्थी निकलने की धमकी भी मिली थी। 

वहीं हत्या के बाद पहुंचे एएसपी दिलनवाज अहमद ने आक्रोशित बीजेपी के समर्थकों से बात कर आरोपियों की गिरफ्तारी का आश्वशासन दिया। एएसपी दिलनवाज अहमद ने बताया कि बयान में घायल की भाभी ने घटना का कारण पुरानी रंजिश बतायी थी, लेकिन आज कुछ और मामला बताया जा रहा है। पुलिस सभी बिंदुओं पर गहराई से जांच कर रही है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Kajal Kumari