पटना [राज्य ब्यूरो]। उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने शनिवार को कहा कि बिहार में लालू प्रसाद अपनी बेटी मीसा भारती और यूपी में मुलायम सिंह यादव अपनी बहू डिंपल यादव को भी चुनाव नहीं जिता पाए। जाहिर तौर, यह जनादेश डंके की चोट पर यह कठोर संदेश देता है कि लोकतंत्र में न कोई समुदाय किसी का बंधुआ वोटर है और न अब थेथरोलाजी से जनता को गुमराह किया जा सकता है। 

सुशील मोदी ने कहा कि लालू प्रसाद की पार्टी जिस समाज को अपना बंधुआ समझती थी, उस समाज के पांच उम्मीदवार एनडीए के टिकट पर जीते। दूसरी तरफ, राजद का कोई प्रत्याशी नहीं जीत पाया। लालू प्रसाद की पुत्री मीसा भारती और समधी चंद्रिका राय को भी पराजय का सामना करना पड़ा, जबकि यदुवंशी समाज के नित्यानंद राय, अशोक यादव, रामकृपाल यादव, दिनेश चंद्र यादव और गिरिधारी यादव एनडीए के टिकट पर विजयी रहे।

उन्होंने कहा कि पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव के परिवार की बहू डिंपल यादव और अन्य रिश्तेदारों की हार भी यही साबित करती है कि कोई समुदाय किसी का बंधुआ नहीं, बल्कि देशभक्ति, खुशहाली और विकास के लिए विवेक-सम्मत मतदान करता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच साल तक गरीबी और आतंकवाद से लडऩे की जो बड़ी लकीर खींची, उसके सामने जात-पात की राजनीति बेमानी हो गई। लोकतंत्र जनता के ऐसे फैसलों से बचा है, किसी की पदयात्रा करने की नौटंकी से नहीं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस