पटना [अहमद रजा हाशमी]। गुरु गोविंद सिंह के 350वें प्रकाशपर्व पर सात समंदर पार और देश के कोने-कोने से सिख श्रद्धालुओं के पटना पहुंचने का सिलसिला जारी है। तख्त श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब में मत्था टेकने के बाद श्रद्धालु फुर्सत में गुरु का बाग पहुंच रहे हैं। मान्यता है कि हरे-भरे इस बाग में फलदार पेड़ लगाने से मुरादें पूरी होती हैं। यहां स्थित कुएं के पानी तथा सरोवर में स्नान करने पर बीमारियां दूर हो जाती हैं।

गुरु का बाग में पेड़ लगाने, स्नान करने तथा यहां नीम के पेड़ की धूल को प्रसाद स्वरूप सहेजने वालों की मुरादों को टटोलना वाजिब नहीं। पर, अधिकांश औलाद पाने की इच्छा रखते हैं।

मान्यता है कि दिल में उपजी मुरादें गुरु तेग बहादुर सिंह के आशीर्वाद से पूरी होने के बाद खुशियों में तब्दील हो जाती हैं। ऐसे कई खिले चेहरे भी गुरु का बाग में देखने को मिले। पूछने पर सिर्फ इतना कहा कि पहले यहां आकर जो मांगा वो मिल गया। अब गुरुजी का शुक्रिया अदा करने आए हैं। देश-विदेश से पहुंचे कई संगतों ने कहा कि पटना दोबारा आने की वजह गुरु का बाग बनेगा। पूरे परिवार के साथ सात समंदर पार से फिर आऊंगा।

प्रकाश पर्व को ले उमड़ने लगी भीड़, सात समंदर पार से भी आने लगे श्रद्धालु

नवाब भाइयों ने बाग गुरु के नाम किया

दशमेश गुरु श्री गुरु गोविंद सिंह जी महाराज का जन्म पटना साहिब में 22 दिसंबर 1666 को हुआ था। पुत्र के जन्म लेने की खबर पाकर पिता गुरु तेग बहादुर सिंह असम से चलकर पटना साहिब पहुंचे थे। विश्व में दूसरे तख्त श्री हरिमंदिर जी पटना साहिब से चार किलोमीटर पहले इस बाग में गुरु जी महाराज रुके।

बताते हैं कि दो भाई नवाब रहीम बक्श और करीम बक्श के इस फलदार बाग के माली से एक भूखे साधु ने खाने के लिए फल मांगा तो माली ने मालिक से पूछने के बाद ही देने की बात कही। इससे आक्रोशित साधु ने बाग सूख जाने का श्राप दे दिया। तबसे यह बाग सूखा था। सिखों के नौवें गुरु तेग बहादुर सिंह जी के कदम पड़ते ही बाग फिर से हरा-भरा हो गया। नवाब की पत्नी को कोढ़ था। यहां के कुएं के पानी से स्नान करते ही ठीक हो गया। बेऔलाद पत्नी की गोद भर गई। नवाब भाइयों ने अपने बाग को गुरु का बाग कह उन्हें समर्पित कर दिया।

सावधान! प्रकाशपर्व के दौरान हो सकता आतंकी हमला, अलर्ट पर SWAT

यहां महफूज हैं कई निशानियां

गुरु का बाग परिसर में गुरु तेग बहादुर सिंह जी ने नीम की जिस दातून को गाड़ा था वो विशाल वृक्ष बन गया। आज भी नीम के उस पेड़ की डाल मौजूद है। देश-विदेश से मुरादें लेकर आने वाले श्रद्धालु इसकी छाल और धूल प्रसाद स्वरूप ले जाते हैं। गुरु जी का कड़ा, जिस इमली के पेड़ के नीचे गुरुजी बैठे थे उसकी डाल, वरदान दिया हुआ कुआं, साधु का कमंडल, आसन सुरक्षित है। गुरु का बाग में हर वर्ष स्नान मेला लगता है।

AMAZING : सड़क पर फेंक गए नोटों भरा बोरा, घंटों मची रही लूट की होड़

Edited By: Amit Alok