पटना। महाशिवरात्रि के मौके पर शुक्रवार को पूरा शहर भगवान शिव की आराधना में लीन रहा। सुबह से ही शहर के प्रमुख शिवालयों में भक्तों की भीड़ रही। पूरा शहर बोल-बम और हर-हर महादेव से गूंजता रहा। बांस घाट काली मंदिर, पटना जंक्शन हनुमान मंदिर, खाजपुरा शिव मंदिर, चूड़ी मार्केट शिव मंदिर, कंकड़बाग, बोरिग केनाल रोड, राजीव नगर आदि जगहों के शिव मंदिर रंगीन रोशनी और फूल-मालाओं से सजाए गए थे। श्रद्धालुओं ने भगवान शिव और माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए दूध, गंगाजल, बेलपत्र, भांग, धतूर आदि से अभिषेक कर पूजा-अर्चना की। शिवरात्रि को लेकर शुक्रवार को अहले सुबह से देर रात तक शिव मंदिरों के द्वार खुले रहे।

पूजा समितियों की ओर से निकली शोभायात्रा -

इस दौरान शहर की विभिन्न समितियों की ओर से भगवान शिव की भव्य शोभायात्रा निकाली गयी। श्रीश्री महाशिवरात्रि महोत्सव शोभायात्रा अभिनंदन समिति की ओर से ऐसी 21 शोभायात्राओं का संयोजन किया गया। सभी शोभायात्रा शहर का भ्रमण करते हुए आखिर में खाजपुरा शिव मंदिर के पास पहुंचीं, जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद, विधानसभा के अध्यक्ष विजय चौधरी, विधायक संजीव चौरसिया, जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन और पद्मश्री डॉ. सीपी ठाकुर ने सभी का स्वागत किया। यहां आयोजित समारोह में सभी समितियों को मेडल व मोमेंटो देकर उनका हौसला बढ़ाया गया।

पंडितों ने की आरती -

शुक्रवार की शाम चार बजे से विभिन्न पूजा समितियों की ओर से शोभायात्रा निकाली गयी। यात्रा में भगवान शिव, मां पार्वती, भगवान गणेश के साथ नंदी और भूत-पिशाच का वेश धारण किए श्रद्धालु सभी की अपनी ओर आकर्षित करते रहे। शिव बरात में घोड़े और ऊंट के साथ बैंड-बाजे भी शामिल थे। दूसरी ओर माथे पर कलश लिए महिलाओं का झुंड उत्साह बढ़ा रहा था। युवाओं की टोली ने माथे पर भस्म और टीका लगाए शोभायात्रा को सफल बनाने में अपनी भूमिका अदा की। यात्रा में शामिल सभी समितियों का स्वागत पंडित हरे कृष्ण झा, मुकेश शर्मा, भोला मालाकर, लाला पांडेय आदि ने आरती के साथ किया। वही जगह-जगह पर श्रद्धालु शोभायात्रा के मार्ग में फूलों की बारिश करते नजर आए। खाजपुरा शिव मंदिर में बने पंडाल में कलाकारों ने एक से बढ़कर एक भक्ति गीतों की प्रस्तुति कर पूरे शहर को शिवमय बना दिया।

मंदिर के बाहर भक्तों ने किए नागराज के दर्शन -

शिवरात्रि के मौके पर शहर के राजापुर पुल शिव मंदिर, बांस घाट काली मंदिर आदि शिव मंदिरों के बाहर भक्तों ने नागराज का दर्शन कर उनसे आशीष प्राप्त किया। वही मंदिरों में युवतियों की भीड़ खूब दिखी। युवतियों ने मंदिर में स्थापित नंदी महाराज के कान में अपने दिल की बात सुनाकर उसे पूरा करने की विनती की।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस