रहुई (नालंदा), जागरण संवाददाता। नालंदा जिले में  राहुल प्रखंड के अंबा पंचायत के  मिल्कीपर गांव में ग्रामीणों ने अनोखी शादी करा दी। बुधवार देर रात मिल्कीपर गांव में दो प्रेमी जोड़ों को गांव वालों ने शादी के बंधन में बांध दिया। खुद ही बराती और सराती भी बने। इतना ही नहीं मंदिर में हुई शादी का रजिस्‍ट्रेशन भी कराया। दोनों को आशीर्वाद देकर परिजनों के हवाले कर दिया।

दरअसल, उत्तरथू निवासी कुबेर कुमार का प्रेम प्रसंग मिल्कीपर गांव निवासी मनसा कुमारी के साथ पिछले एक साल से चल रहा था। इस दौरान दोनों एक दूसरे से छुप-छुप कर मिलते थे। दोनों प्रेमी जोड़ों को शीतलाष्टमी मेला के दौरान गांव वालों ने घूमते भी देखा। जब प्रेमी प्रेमिका को छोड़ने के लिए गांव पहुंचा तब गांव वालों ने प्रेमी को घर में घुसते देख लिया। जिसके बाद ग्रामीणों ने सराती और बराती की भूमिका निभाते हुए मिल्कीपर गांव के मंदिर में दोनों को पकड़कर शादी के बंधन में बांध दिया। इस दौरान हिंदू रीति रिवाज के अनुसार शादी के लिए पंडित को भी बुलाया गया और मंत्र भी पढ़े गए। दोनों प्रेमी प्रेमिका को शादी के बंधन में बांधने के बाद ग्रामीणों ने आशीर्वाद भी दिया और दोनों के परिजनों के हवाले कर दिया।

प्रेमी पहले बिफरा,फिर हुई दुल्‍हन की विदाई

वही प्रेमी ने धोखे से बुलाकर ग्रामीणों और लड़की के परिजनों के ऊपर जबरन शादी कराने का आरोप लगाया। इसके बाद ग्रामीणों ने वर पक्ष और वधू पक्ष के परिजनों में समझौता कर नई नवेली दुल्हन को हिंदू रीति रिवाज के अनुसार विदाई भी कराई। विदाई में मिल्की पर गांव की दर्जनों महिलाएं शामिल हुईं। ग्रामीणों के अनुसार प्रेमी कुबेर कुमार अपनी प्रेमिका को पिछले कई दिनों से शादी का झूठा भरोसा दे रहा था। शादी के नाम पर हमेशा प्रेमी ने बस वक्त ही मांगा। इस बात की जानकारी प्रेमिका ने अपने परिजनों को दी, जिसके बाद शीतलाष्टमी मेला के बहाने जब प्रेमी अपनी प्रेमिका से मिलने आया तो परिजनों ने ग्रामीणों के साथ मिलकर हिंदू रीति रिवाज के अनुसार शादी करवाई। जिस मंदिर में दोनों की शादी हुई है उस मंदिर में दोनों की शादी का निबंधन भी हुआ है। फिलहाल दोनों के परिजन इस शादी से काफी खुश नजर आ रहे हैं।

शादी और परिजनों में समझौता के बाद खुश नजर आए दुल्‍हा और दूल्‍हन। जागरण फोटो।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021