पटना । केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 2020 में होने वाली 10वीं एवं 12वीं परीक्षा में एनसीईआरटी किताबों के पाठ्यक्रम के साथ-साथ चैप्टर के बॉक्स एवं प्वाइंटर से भी प्रश्न पूछ जाएंगे। इस संबंध में बोर्ड ने छात्रों को किताबों का पूरी तरह अध्ययन करने को कहा है। बोर्ड के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने इस संबंध में पत्र जारी कर दिया है। बोर्ड के परीक्षा विशेषज्ञों के अनुसार एनसीईआरटी की किताबों में काफी जानकारी बॉक्स, हाईलाइटर, प्वाइंटर आदि के माध्यम से दी जाती है। इसमें काफी महत्वपूर्ण तथ्य रहते हैं। स्कूल में शिक्षक भी छात्रों को इन तथ्यपरक बातों को याद करने के लिए होम वर्क भी देते है।

------------

: नहीं होगा होम सेंटर, दूसरे स्कूल में होगी प्रायोगिक परीक्षा :

सीबीएसई की ओर से वर्ष 2020 से 12वीं बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षा के लिए होम सेंटर की व्यवस्था नहीं की जाएगी। अब छात्रों को दूसरे स्कूलों में आयोजित होने वाली प्रायोगिक परीक्षा में सम्मिलित होना पड़ेगा। इसके लिए जल्द सीबीएसई की ओर से तिथि निर्धारित की जाएगी। सत्र 2020 से 12वीं बोर्ड की प्रायोगिक परीक्षा से पहले प्रवेशपत्र जारी किया जाएगा। सीबीएसई के इस कदम से काफी हद तक फर्जीवाड़ा रुकेगा। साथ ही मेहनती व मेधावी छात्रों की पहचान हो सकेगी।

- - - - - - -

फर्जीवाड़ा रोकने के लिए उठाए गए कदम :

जानकारों की मानें तो प्रायोगिक परीक्षा को लेकर स्कूलों की ओर से फर्जीवाड़ा किया जाता था। वर्ष 2019 में प्रायोगिक परीक्षा कराने के लिए पहुंचे वीक्षकों ने भी इसकी शिकायत की थी। यह भी सामने आया कि बड़ी संख्या में छात्र सीबीएसई स्कूलों में नामांकन लेकर मेडिकल व इंजीनियरिग की तैयारी के लिए दिल्ली, कोटा आदि शहरों में कोचिंग ज्वाइन कर लेते हैं। इसके एवज में स्कूलों की ओर से मोटी राशि वसूली जाती है।

- - - - - - -

: छात्रों के लिए होगा फायदेमंद :

सीबीएसई के सिटी कोऑर्डिनेटर डॉ. राजीव रंजन ने बताया कि 10वीं एवं 12वीं परीक्षा में पाठ्यक्रम के साथ-साथ बॉक्स, प्वाइंटर व हाईलाइटर से प्रश्न आते हैं तो परीक्षा में यह छात्रों के लिए फायदेमंद रहेगा। उन्हें कक्षा में भी इन बातों को हमेशा याद कराया जाता है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप