पटना [चन्द्रशेखर]। इंडियन पोस्ट पेमेंट बैंक (आइपीपीबी) भारत सरकार की बहुप्रतीक्षित एवं महत्वाकांक्षी परियोजनाओं में से एक है। इसका उद्देश्य गांव-गांव की जनता तक बैंकिंग सुविधाएं उपलब्ध कराना है। इसके अन्‍तर्गत बिहार के सभी 38 जिलों में डाकघर भुगतान बैंक लगभग 8000 एक्सेस प्वाइंट के साथ काम करेंगे। इस सेवा का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगामी एक सितंबर को करेंगे।

सिस्‍टम से जुड़ेंगे देश के 17 करोड़ खाते

बिहार में वर्तमान में  2.72 करोड़ डाकघर बचत बैंक खाते हैं जिन्हें आइपीपीबी से जोडऩे की अनुमति है। वहीं पूरे भारत में 17 करोड़ डाक बचत खाते इससे जुड़ जाएंगे। इस प्रकार डाकघर भुगतान बैंक देश का सबसे बड़ा बैंकिंग नेटवर्क बन जाएगा।

एक सितंबर को पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

पूर्वी क्षेत्र (बिहार) के पोस्ट मास्टर जनरल अनिल कुमार ने बताया प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक सितंबर को पूरे भारत में 650 डाकघर भुगतान बैंक एवं 3250 एक्सेस प्वाईंट का शुभारम्भ करेंगें। इसके बाद से पूरे देश में इंडियन पोस्ट पेमेंट बैंक काम करने लगेगा।

डाकघर भुगतान बैंक के खुल जाने से शहरी आबादी के साथ-साथ ग्रामीण जनता को भी बैंक सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। इसके लिए आने वाले 6 महीने में सभी ग्रामीण डाकघरों को इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक से जोड़ दिया जाएगा। इसके माध्यम से वे अपने पैसे को अपने परिजनों को किसी भी बैंक एकाउन्ट के माध्यम से आसानी से हस्तांतरित कर सकते हैं। इसके द्वारा अपने सभी प्रकार के बिलों का भुगतान भी कर सकेंगे ।

डाकघर भुगतान बैंक द्वारा दी जाने वाली सुविधाएं

- डाकघर भुगतान बैंक तीसरे पक्ष के जरिये ग्राहकों को लोन एवं क्रेडिट कार्ड एवं अन्य पालिसियां भी बेचेगी ।

- एक लाख रूपये तक की राशि की जमा एवं निकासी कर सकेंगे। इससे अधिक राशि डाकघर बचत खाते में हस्तांतरित किया जाएगा।

- डाकघर भुगतान बैंक से पॉलिसी व म्यूचुअल फंड भी मिलेंगे ।

- महिलाओं को वित्‍तीय स्वतंत्रता, अपना पैसा अपने हाथ।

- विद्यार्थियों को छात्र निधि तक पहुंचना आसान होगा। 

Posted By: Amit Alok