पटना [जेएनएन]। महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के विवाद का असर बिहार पर भी पड़ता दिख रहा है। वहां भारतीय जनता पार्टी (BJP) से रिश्‍ता बिगड़ने के बाद शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने सवाल किया है कि बीजेपी बिहार में अलग विचारधारा वाले जनता दल यूनाइटेड (JDU) व लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के साथ गठबंधन (Alliance) में कैसे है? इसपर बिहार में सियासत गरमा गई है।

उद्धव ठाकरे ने कही ये बात

विदित हो कि महाराष्‍ट्र में विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Election) में किसी भी गठबंधन को स्‍पष्‍ट बहुमत नहीं मिला। इसके बाद वहां सरकार बनाने के लिए जारी खींचतान के बीच राष्ट्रपति शासन (President Rule) लगा दिया गया है। शिवसेना ने बीजेपी पर गठबंधन तोड़ने का आरोप लगाया है। साथ ही, यह भी कहा है कि उसकी महाराष्ट्र में सरकार बनाने को ले कांग्रेस (Congress) व एनसीपी (NCP) से बातचीत जारी है।

कांग्रेस व एनसीपी के साथ वैचारिक मतभेदों के सवाल पर उद्धव ठाकरे ने बीजेपी द्वारा विपरीत विचारधारा के दलों के साथ गठबंधन पर सवाल किया। पूछा कि बीजेपी ने अपनी विचारधारा के विपरीत चलने वाले नीतीश कुमार (Nitish Kumar), रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan), महबूबा मुफ्ती (Mahbooba Mufti) व चंद्रबाबू नायडू (Chandrababu Naidu) के साथ गठबंधन कैसे किया? उन्‍होंने कहा कि इससे उन्‍हें भी कांग्रेस व राकांपा को साथ लेकर चलने में परेशानी नहीं होगी। उद्धव ठाकरे ने कहा कि बीजेपी व शिवसेना लंबे समय तक साथ थे, लेकिन अब शिवसेना को एनसीपी और कांग्रेस के साथ जाना है।

बिहार में गरमाई सियासत

महाराष्‍ट्र में सत्ता संघर्ष में उद्धव ठाकरे द्वारा नीतीश कुमार व रामविलास पासवान के बहाने बीजेपी पर निशाना साधने से बिहार की सियायत गरमाती दिख रही है। बिहार के बीजेपी अध्‍यक्ष ने कहा है कि एनडीए में सभी दल अपने चुनावी घोषणा पत्र का पालन करते हैं। जहां तक गठबंधन की बात है, न्‍यूनतम साझा कार्यक्रम (Common Minimum Programme) के तहत हम एक हैं। बीजेपी नेता व केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे (Ashwini Chaubey) ने शिवसेना पर जनमत से विश्‍वासघात का आरोप लगाया।

उद्धव ठाकरे के बयान पर जेडीयू के राष्‍ट्रीय महासचिव केसी त्‍यागी (KC Tyagi) ने शिवसेना का गठबंघन के बाहर जाना दुर्भायपूर्ण बताया। श्‍याम रजक (Shyam Rajak) ने कहा कि एनडीए में जेडीयू का न्‍यूतम साझा कार्यक्रम के तहत समझौता है।

Posted By: Amit Alok

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप