पटना, राज्य ब्यूरो। जदयू के कार्यकर्ता सम्मेलन को बिहार कांग्रेस के साथ ही राजद, रालोसपा, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा और जन अधिकार पार्टी ने एक सुर में फ्लॉप शो बताया है। इन राजनीतिक दलों ने अपने बयान में कहा कि बिहार में भले ही नीतीश कुमार की सरकार 15 वर्षों से है, बावजूद कार्यकर्ता सम्मेलन के बहाने पार्टी की जमीनी हकीकत सबके सामने आ गई। वहीं, राजद सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ने ट्वीट कर कहा कि बधाई हो चच्‍चा... पूरा पटना रैली के रंग में रंग गया, हुजूम ऐसा था कि पटना छोटा पर गया। गांधी मैदान का 56 इंच नीचे धंसने जैसी खबरें आ रही है...। इसके साथ ही रैली का फोटो भी उन्‍होंने टैग किया है। 

फ्लॉप रही नीतीश की सभा : तेजस्वी 

तेजस्वी यादव ने जदयू के कार्यकर्ता सम्मेलन को पूरी तरह फ्लॉप बताया। कहा कि जदयू को यह अंदाजा नहीं था कि कार्यक्रम में इतने कम लोग आएंगे और गांधी मैदान का पांच फीसद हिस्सा भी नहीं भर पाएगा। इस कारण आनन-फानन में उसे कार्यकर्ता सम्मेलन का नाम दे दिया गया। कहा कि जनता अब नीतीश कुमार को नापसंद करने लगी है। 

जनता अब और ठगी का शिकार होने को तैयार नहीं : कांग्रेस 

रविवार को कांग्रेस रिसर्च विभाग एवं मैनिफेस्टो कमेटी के चेयरमैन आनंद माधव, प्रवक्ता राजेश राठौर, जया मिश्रा ने बयान जारी कर कहा कि पूरा सरकारी तंत्र गलाने के बाद भी गांधी मैदान का एक कोना भी नहीं भरा। सच्चाई यह है की नीतीश कुमार को पूरी तरह से नकार दिया गया है। इस सम्मेलन ने साबित कर दिया है कि जनता अब और ठगी का शिकार होने को तैयार नहीं। नेताओं ने कहा कि 10 से 15 लाख भीड़ जुटने का दावा करने वाले मैदान में दस हजार आदमी भी नहीं जुटा सके। 

एक्‍सपोज हो गए नीतीश: रालोसपा

रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि नीतीश कुमार पूरी तरह एक्सपोज हो गए। भीड़ नहीं के बराबर थी। कहा कि नीतीश कुमार ने भाजपा के साथ मिल कर देश में सीएए लागू करवा कर बिहार के युवाओं, पिछड़ों, महिदलितों और अल्पसंख्यकों को छला है, इसलिए आज उनके पीछे उनके कार्यकर्ता भी नहीं खड़े हैं। 

जदयू की रैली ने गांधी मैदान का अपमान किया : हम

हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि जब जदयू के पास कार्यकर्ता ही नहीं हैं तो फिर इस तरह का छोटा आयोजन कराकर ऐतिहासिक गांधी मैदान को अपमानित करने की क्या जरूरत थी। उन्होंने कहा गांधी मैदान एक धरोहर है और ऐसे आयोजनों से गांधी मैदान का अपमान होता है। यदि जदयू लोग नहीं जुटा पा रहा था तो हम से आग्रह करता हम कुछ हजार लोग गांधी मैदान में भेज देते। 

शहर को बैनर पोस्टर से पाटा पर गांधी मैदान खाली : जाप 

जन अधिकार पार्टी प्रवक्ता प्रेमचंद्र सिंह ने कहा कि जदयू कार्यकर्ता सम्मेलन के पहले पूरे शहर को झंडे, बैनर पोस्टर से पाट दिया गया, लेकिन नेताओं ने इस ओर ध्यान नहीं दिया कि गांधी मैदान में लोग कहां से लाएंगे। उन्होंने कहा धन, बल और प्रशासनिक दुरुपयोग के बाद जदयू का यह सम्मेलन फ्लॉप शो बनकर रह गया। यहां भीड़ का नहीं आना बताता है कि लोग नीतीश कुमार से ऊब चुके हैं। 

 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस