पटना [चंद्रशेखर]। दांत से जुड़ी बीमारियों से शहर के साथ ग्रामीण इलाके के लोग भी परेशान हैं। गांवों में इलाज की व्यवस्था नहीं रहने से उन्हें खासी दिक्कत होती है। इस समस्या को देखते हुए पटना दंत चिकित्सा महाविद्यालय की ओर से प्रखंड स्तर पर चलो गांव की ओर योजना के तहत सेटेलाइट क्लीनिक खोलने का निर्णय लिया गया है। राजधानी से सटे प्रखंड संपतचक के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पहला सेटेलाइट क्लीनिक खोल दिया गया है।

क्या है सेटेलाइट क्लीनिक?

सेटेलाइट क्लीनिक खोलने का मकसद दूरदराज के ग्रामीण क्षेत्रों के हजारों दांत के रोगियों का समुचित इलाज निश्शुल्क करना है। पटना दंत चिकित्सा महाविद्यालय की ओर से इन क्लीनिकों में चिकित्सा सेवा मुहैया कराने की व्यवस्था की जाएगी।

पटना दंत चिकित्सा महाविद्यालय के प्राचार्य डीके सिंह ने बताया कि राज्य सरकार की चलो गांव की ओर योजना को सशक्त बनाने के लिए सेटेलाइट क्लीनिक खोलने का निर्णय लिया है। पटना दंत चिकित्सा महाविद्यालय में पढ़ने वाले हर पीजी के छात्र-छात्राओं को साल में कम से कम एक महीना इस क्लीनिक में आकर रोगियों का इलाज करना होगा। संविदा पर रखे गए चिकित्सकों को भी अपनी सेवा इन क्लीनिकों में देनी होगी।

जुटने लगी रोगियों की भीड़

संपतचक स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में खोले गए सेटेलाइट क्लीनिक में अब दांत के रोगियों की भीड़ जुटने लगी है। प्रतिदिन साठ से सत्तर रोगियों का इलाज किया जा रहा है।

स्लम क्षेत्रों में चलाया जा रहा है जागरूकता अभियान

पटना दंत चिकित्सा महाविद्यालय की ओर से शहर ही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों के स्लम एरिया में बच्चों व बुजुर्गो के बीच दांतों के रखरखाव के लिए विशेष रूप से जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत दांतों की जांच शिविर में बचाव तथा इलाज के बारे में बताया जाता है। इन क्षेत्रों में मुफ्त ब्रश व टूथपेस्ट भी बांटे जाते हैं।

By Jagran