पटना। राजीव नगर रोड नंबर 16 में सुहागन ज्वेलर्स दुकान में घुसकर दुकानदार राकेश कुमार पर फायरिग मामले में पुलिस कुख्यात पंकज शर्मा को गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। वारदात में शामिल दो शूटर सहित तीन अन्य अपराधियों का लोकेशन ट्रेस करने के बाद पुलिस इलाके की घेराबंदी कर गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। हालांकि पुलिस अभी पंकज की गिरफ्तारी की पुष्टि नहीं कर रही है। सूत्रों की मानें तो पुलिस की जांच और करीबियों से पूछताछ में पंकज शर्मा और दुकानदार के बीच आपसी विवाद और रंगदारी की बात सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि पंकज राकेश से दस लाख रुपये की रंगदारी मांग रहा था। रुपये नहीं देने पर अंजाम भुगतने की धमकी भी दिया था।

-------- फुटेज में दिखा दोनों अपराधियों ने दुकानदार पर की थी फायरिग पुलिस को दुकान के अंदर और तीन अन्य जगह लगे सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि वारदात में दो बाइक से चार नहीं, बल्कि तीन बाइक से छह अपराधी आये थे। वारदात में पल्सर 220, पल्सर 150 और अपाचे बाइक का इस्तेमाल हुआ है। तीन में एक बाइक पर दो लाइनर सवार थे। इसमें एक बाइक का नंबर 3550 बताया जा है, जो पंकज के नाम पर से रजिस्टर्ड है। हालांकि पुलिस दो अन्य बाइक नंबर का सत्यापन कर रही है। फुटेज देखने पर पता चला कि एक बाइक सवार दोनों लाइनर वहां पहुंचे और इशारा करके निकले गए। कुछ देर बाद पल्सर और अपाचे बाइक पर चार अपराधी आये। पास के स्कूल के पास ही दोनों बाइक रूक गई। बाइक से दो अपराधी नीचे उतरते है और सीधे दुकान में दाखिल होते है। दुकान के अंदर सीसीटीवी फुटेज में दिखा कि दोनों अपराधी काउंटर के पास कुर्सी पर बैठे है और सामने दुकानदार है। दोनों अपराधी काउंटर पर कुछ सामान देख रहे है। दुकान में घुसने के करीब 15 सेकेंड बाद ही दोनों में से एक अपराधी कमर से कट्टा निकालता है और काफी करीब से राजेश के सिर को निशाना बनाते हुए गोली चला दी लेकिन निशाना चूक गया। तभी दूसरा अपराधी भी हड़बड़ी में गोली चलाता है। गोली दुकानदार की जांघ में लगी। इसके बाद अपराधी दुकान में बैठी महिला ग्राहक को धमकाते हुए बाहर निकल गए। दोनों अपराधी के गोली चलाने के तरीके देख पुलिस कयास लगा रही है कि दोनों प्रोफेशनल नहीं हैं। ---------- जिस गली से आए उसी से फरार हुए अपराधी जयप्रकाश नगर नाला से रोड नंबर 16 की तरफ आने वाली गली के फुटेज में अपराधी दिखे हैं। जय प्रकाशनगर नाले के पास बुधवार दोपहर करीब 12 बजकर 52 मिनट पर छह अपराधी जुटे थे। कुछ देर उन्होंने आपस में बातचीत की। इसके बाद एक बाइक आगे निकल गई और पीछे दो बाइक पर चार अपराधी सराफा दुकान की तरफ बढ़ गए। वापस भी इसी रास्ते लौटे और दीघा-आशियाना की तरफ फरार हो गए। पुलिस ने तीनों बाइक का नंबर पता कर उसका सत्यापन कर रही है। -------------- काल डिटेल के जरिए जिसे उठाया उससे भी मांगी थी रंगदारी सूत्रों की मानें तो पुलिस को पंकज के मोबाइल नंबर से एक संदिग्ध नंबर मिला, जिस पर पंकज शर्मा ने कई बार फोन किया था। काल रिकार्ड के आधार पर पुलिस ने उक्त मोबाइल नंबर का इस्तेमाल करने वाले युवक को उठा लिया। बताया जा रहा है वह अस्पताल से जुड़ा है। हालांकि हिरासत में लिये गए युवक की पत्नी का कहना है कि पंकज शर्मा उनके पति से 20 लाख की रंगदारी मांगा था। बाद में उसने माफी मांग ली, जिसकी वजह से कोई केस नहीं किया। फिलहाल पुलिस पूछताछ केउन्हें छोड़ दी। ----------- --------- रंगदारी सहित अन्य बिन्दुओं पर जांच कर रही पुलिस पुलिस रंगदारी के अलावा अन्य बिन्दुओं पर भी जांच कर रही है। जांच में जुटे एक पुलिस पदाधिकारी की मानें तो अगर बात सिर्फ रंगदारी की होती तो अपराधी सीधे सिर को निशाने पर नहीं लेते और न ही दो अपराधी मिलकर दुकानदार पर फायड्क्षरग करते। डराने के लिए भी दुकान के बाहर या अंदर हवाई फायड्क्षरग कर सकते थे। फुटेज में स्पष्ट दिख रहा है कि अपराधियों ने दुकानदार की हत्या की मंशा से ही फायड्क्षरग की थी। पुलिस दुकानदार के बयान का इंतजार कर रही है और अन्य जांच भी कर रही है ताकि स्पष्ट हो सके कि पंकज और दुकानदार के बीच पूर्व में कोई अन्य विवाद तो नहीं था।

Edited By: Jagran