पटना, जेएनएन। छठा बिहार उद्यमिता सम्मेलन सह बिहार प्रवासी सम्मेलन-2019 में जुटे प्रवासी बिहारी ने राज्य के विकास में अपनी-अपनी भागीदारी पर मंथन किया। देश-विदेश से जुटे उद्यमियों से श्रम संसाधन विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि निवेश का मतलब बड़ी राशि से नहीं है, जो जिस क्षेत्र के विशेषज्ञ हैं, उसी में अपने गांव व जिले के लोगों का मार्गदर्शन कर उज्ज्वल भविष्य के लिए तैयार कर सकते हैं।

राज्य में घनी आबादी और कृषि युक्त भूमि होने के कारण उद्योगपतियों को उनकी इच्छा के अनुसार जमीन उपलब्ध कराने में सरकार असमर्थ है। बावजूद सरकार अपनी ओर से कोई कसर नहीं छोड़ रही है।

निवेश करने पर देश में सबसे ज्यादा छूट बिहार में ही कारोबारियों को मिल रहा है। इसका लाभ अपने लोगों को उठाने पर राज्य सरकार को भी खुशी होगी। इसका आयोजन बिहार उद्यमी संघ, इंटरप्नोयर एसोसिएशन ऑफ इंडिया, बिहार इंटरप्नोयर एसोसिएशन ने संयुक्त रूप से किया। बिहार उद्यमिता सम्मेलन का आयोजन 2014 से किया जा रहा है। 

बिहार करवट ले रहा है, सभी मिलकर बदलेंगे तस्वीर

नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा की राज्य के उत्थान के लिए सरकार और उद्यमियों को साथ-साथ काम करना होगा। बिहार करवट ले रहा है। सभी मिलकर वास्तविक गौरव को लौटाएंगे। राज्य के उत्थान के लिए सबको आगे आना होगा।

कारोबार के लिए बाजार, बिजली, पानी, सड़क आदि उपलब्ध है। अब निवेश आना निश्चित है। इसका लाभ प्रवासी बिहारी उठाएं। बिहार उद्यमी संघ के महासचिव अभिषेक सिंह ने कहा कि बीईए राज्य में हाशिए पर पड़े समुदायों के उत्थान के लिए प्रयत्नशील रहा है। इस बार कृषि, स्वास्थ, शिक्षा की बेहतरी के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के प्रयोग पर काम किया जा रहा है। 

24 घंटे काम का है राज्य में माहौल 

 डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने कहा कि राज्य में काम करने का 24 घंटे माहौल है। कारोबारी बेखौफ होकर अपना व राज्य का विकास करें। किसी डरने की जरूरत नहीं है। राज्य में निवेश का बेहतर माहौल है। निवेश स्थल पर किसी तरह की परेशानी होने पर पुलिस प्राथमिकता के साथ सहयोग करेगी। 

दूसरे देश को चमकाएं है, अब घर की बारी है

भवन निर्माण विभाग मंत्री महेश्वर हजारी ने कहा कि प्रवासी बिहारी अपनी कर्मभूमि को चमकाने में सफल रहे हैं। अब मातृभूमि को चमकाने की बारी है। राज्य सरकार भी उद्यमियों के सहयोग के लिए पूरी तरह से तैयार है। ढांचागत सुविधाएं अब राष्ट्रीय स्तर की है। कृषि, शिक्षा, सेवा आदि क्षेत्र में निवेश की काफी संभावना है।  

उद्यमियों ने साझा किया अनुभव 

ओमान के स्टील व्यवसायी दीपक ठाकुर ने कहा कि दुनिया के हर देश में सीईओ, डायरेक्टर, मैनेजर और मजदूर भी बिहारी हैं। खास बात यह है कि बिहारी जहां और जिस क्षेत्र में हैं, वहां उनका वर्चस्व है। इस मिट्टी में इतना दम है कि बिहारी जिस जगह जाता है सोना निकालता है। लेकिन, राज्य में हम सिर्फ राजनीति कर रहे हैं।

कारखाना, कंपनी, स्कूल, कॉलेज की स्थिति दयनीय होने पर विमर्श करना चाहिए। उन्होंने कार्य के लिए एक जिला चिह्नित कर मांगा। आइटी कंपनी स्थापित करेंगे। दोहा, कतर निवासी शक्ति अहमद ने कहा कि युवा पीढ़ी रोजगार की तलाश में राज्य छोडऩे को मजबूर हैं। यह पीड़ादायक है।

सऊदी अरब के व्यवसायी रहमान ने कहा आलोचना को सिर्फ नकारात्मक नजरिये से नहीं लेना चाहिए। आलोचना से सीखकर लेकर ही प्रवासी बिहारी परचम फहरा रहे हैं। रहमान ने कहा कि बिहार में रोड और बिजली की स्थिति अभी सही है। इसका लाभ राज्य को जरूर मिलेगा। कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के प्रो. राकेश रंजन, प्रेम गुप्ता आदि ने भी विचार रखें।

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप