पटना। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की इंटर प्रैक्टिकल परीक्षा ने शुक्रवार को थोड़ी रफ्तार पकड़ी, लेकिन वोकेशनल कोर्स की प्रैक्टिकल कैसे होगी यह बड़ा प्रश्न है? इसे लेकर केंद्राधीक्षकों में ऊहापोह की स्थिति है। पटना जिले में ऑटोमोबाइल कोर्स के तीन परीक्षार्थी बताए जा रहे हैं। इन सभी का केंद्र अलग-अलग है। जिले के किसी केंद्र पर ऑटोमोबाइल सहित एक दर्जन से अधिक वोकेशनल कोर्स के प्रैक्टिकल की व्यवस्था नहीं है। वोकेशनल के 26 ट्रेड में पढ़ाई होती है। बोर्ड सूत्रों के अनुसार विभिन्न वोकेशनल कोर्स में पिछले साल लगभग 1700 और इस साल 1300 विद्यार्थियों ने फॉर्म भरा है। पटना जिले में इनकी संख्या लगभग 300 के आसपास बताई जा रही है। एएन कॉलेज के केंद्राधीक्षक डॉ. सुभाष प्रसाद सिंह ने बताया कि उनके सेंटर पर भी कुछ वोकेशनल कोर्स के विद्यार्थी हैं। म्यूजिक और होम साइंस के शिक्षक भी कॉलेज में नहीं हैं। इन विषयों के प्रैक्टिकल के लिए एक्सटर्नल और इंटरनल दोनों एक्जामिनर दूसरे संस्थान के शिक्षक होंगे।

जिला शिक्षा पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों के अनुसार एएन कॉलेज, कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आ‌र्ट्स एंड साइंस, जेडी वीमेंस कॉलेज, टीपीएस कॉलेज में अधिसंख्य विषयों की प्रायोगिक परीक्षा की व्यवस्था है। वहीं, उच्च माध्यमिक स्कूलों में साइंस विषयों के प्रैक्टिकल में परेशानी नहीं हो रही है। केंद्राधीक्षकों की मानें तो सामाजिक विज्ञान के विषयों के प्रैक्टिकल में ज्यादा परेशानी हो रही। ज्यादातर स्कूलों में सामाजिक विज्ञान का प्रैक्टिकल 16 जनवरी के बाद शुरू हो रहा है। जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (माध्यमिक) डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि केंद्राधीक्षकों की परेशानी को दूर किया जा रहा है। जिले के 62 प्रायोगिक परीक्षा केंद्रों में से 37 पर गुरुवार तथा शेष 25 में से 22 केंद्रों पर शुक्रवार को प्रैक्टिकल शुरू हो गया है। तीन केंद्रों पर प्रायोगिक परीक्षा 15 जनवरी से प्रारंभ होगी।

By Jagran