पटना, जेएनएन। बिहार के सियासी गलियारे में एक बार फिर सीएम नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बीच की 'राजनीतिक तकरार' सामने आया है। नीतीश कुमार ने इशारों ही इशारों में हमला किया है तो गिरिराज सिंह ने भी बिना नाम लिये ट्वीट कर जवाब दिया है। इसे लेकर सियासी गलियारे में फिर बवाल मचने की उम्‍मीद जताई जा रही है।

दरअसल, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने शुक्रवार को ट्वीट किया है। इसके साथ ही उसने मीडिया रिपोर्ट को टैग किया है। रिपोर्ट में सीएम नीतीश कुमार की ओर से इशारों ही इशारों में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह पर हमला किये जाने की बात कही है। इसी पर गिरिराज सिंह ने जवाब दिया है। गिरिराज सिंह ने ट्वीट कर लिखा है- 'महादेव की दया से जो मुझे सही लगता है, उसे बोलता हूं। ना किसी के आगे बोलता हूं, ना पीछे बोलता हूं और जो बोलता हूं, उसपे अडिग रहता हूं।

गौरतलब है कि इसके पहले जदयू के राज्‍य परिषद की शुक्रवार को ही बैठक हुई थी। इसमें जदयू के प्रदेश अध्‍यक्ष वशिष्‍ठ नारायण सिंह के नाम पर मुहर लगी। इसी कार्यक्रम में सीएम नीतीश कुमार खुद मौजूद थे। उन्‍होंने संबोधित करते हुए इशारों में ही गिरिराज सिंह पर हमला किया। उन्‍होंने बिना नाम लिये कहा कि मेरे पीछे में तो वे बहुत अनाप-शनाप बोलते है, लेकिन जब निजी तौर पर मिलते हैं तो कहते हैं कि क्या करें मेरा यही यूएसपी है।

सूत्रों के मानें तो पिछले पखवारे बीजेपी एमएलसी संजय पासवान ने नीतीश कुमार को केंद्र में राजनीति करने की नसीहत दी थी। कहा था कि नीतीश कुमार काफी सीनियर नेता हैं। अब उन्‍हें केंद्र की राजनीति करनी चाहिए। इतना पर ही वे चुप नहीं रहे और वे दो-तीन दिनों के बाद दिल्‍ली आवास पर गिरिराज सिंह से मिले। फिर ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। चाय की चुस्‍की के बीच सियासी बातचीत होने की भी चर्चा है। बताया जाता है कि संजय पासवान की नसीहत से सीएम काफी दुखी थे। हालांकि, उन्‍होंने खुलेआम कभी इसे प्रकट नहीं किया।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस