पटना [जेएनएन]। राजधानी के बीएन कॉलेज की एक छात्रा से सामूहिक दुष्‍कर्म के मामले में नए खुलासे हुए हैं। पीड़ित छात्रा ने बताया है कि सामूहिक दुष्‍कर्म का विरोध करने पर आरोपितों ने उसे यातना दी। इस दौरान उसे सिगरेट से भी दागा गया। यह भी पता चला है कि पीड़ित छात्रा के यौन शोषण की कोशिश के आरोप में छह साल पहले उसके पिता भी जेल की हवा खा चुके हैं। हालांकि, उक्‍त मामले में पिता निर्दोष साबित हो चुके हैं।

सभी आरोपित गिरफ्तार

इस बीच पुलिस ने रविवार को वारदात के चौथे आरोपित अश्विनी सिंह राजपूत को गिरफ्तार कर लिया। इसके साथ सभी आरोपित गिरफ्तार कर लिए गए हैं। शुक्रवार को नामजद आरोपित अमन भूमि को बिहटा रेलवे स्टेशन से गिरफ्तार किया गया था। एक आरोपित को पुलिस ने पहले दिन ही गिरफ्तार कर लिया था, जबकि दो विपुल व मनीष ने दूसरे दिन सरेंडर कर लिया था।

क्‍या है पूरी घटना, जानिए

छात्रा के अनुसार आरोपित विपुल से उसकी छह महीने पहले दोस्‍ती हुई थी। बीते अक्‍टूबर में उसने दुष्‍कर्म कर उसका वीडियो बना लिया था। फिर उसे वायरल करने की धमकी दे ब्‍लैकमेल कर रहा था। बीते नौ दिसंबर को विपुल ने बीएन कॉलेज गेट पर वीडियो डिलीट करने का झांसा देकर एक साथी के कमरे में ले गया तथा वहां दोस्‍तों संग सामूहिक दुष्‍कर्म किया।

छात्रा ने डर के कारण घटना की जानकारी घरवालों को नहीं दी। उसने अपनी एक सीनियर छात्रा को  इसकी जानकारी दी, जिसने सारी बात उसके पिता को बता दी। इसके बाद स्‍वजनों के सहयोग से छात्रा ने घटना की एफआइआर दर्ज कराई।

विरोध करने पर सिगरेट से दागा

छात्रा के अनुसार उसने वारदात का विरोध किया, जिसपर उसके साथ मारपीट की गई। दुष्‍कर्म के लिए राजी करने के लिए शरीर पर जगह-जगह सिगरेट से दागा गया। फिर घटना की जानकारी किसी को देने पर अंजाम भंगतने व भाई की हत्‍या की धमकी दी गई।

नाबालिग के कमरे में हुई वारदात

पुलिस के अनुसार जहां सामूहिक दुष्‍कर्म हुआ, वह कमरा एक नाबालिग छात्र का है। पुलिस पूछताछ में उक्‍त नाबलिग छात्र ने बताया कि उसने कमरे की चाबी अपने सीनियर अमन को दी थी, जो नौ दिसंबर को वहां गया था। सिटी एसपी ने बताया कि नाबालिग ने दुष्‍कर्म नहीं किया, उसने आरोपितों का सहयोग किया।

पिता पर मां ने ही लगाया था यौन शोषण का आरोप

इस बीच मामले में एक और खुलासा हुआ है। पीड़ित छात्रा का यौन शोषण करने की कोशिश में उसके पिता जेल जा चुके हैं। करीब छह साल पहले 2013 में पीड़िता की मां ने इस बाबत एफआइआर दर्ज करा आरोप लगाया था कि उसकी बेटी का यौन शोषण उसका पिता करते रहे हैं। तब आरोपित पिता को गिरफ्तार कर लिया गया था। बाद में दुष्कर्म की पुष्टि नहीं होने तथा दोनों पक्षों में समझौता हो जाने के बाद मामला खत्‍म हो गया था।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस