पटना, जेएनएन। राजधानी में एक मां ने बेटियों को जायदाद देने की इच्छा क्या जताई उसे परिजनों द्वारा इतना पीटा गया कि उसकी मौत हो गई। मामला दनियावां थाना क्षेत्र के एरई गांव का है। मृतका की पहचान चित्रलेखा देवी (36) के रूप में हुई है। गंभीर रूप से घायल चित्रलेखा ने गुरुवार की शाम इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

गांव में तनाव का माहौल

महिला की मौत के बाद गांव में तनाव व्याप्त हो गया है। पुत्री मिली कुमारी के बयान पर मुख्य अभियुक्त बीरेन पासवान, अंकित पासवान और मुन्ना पासवान समेत दस परिजनों को नामजद किया गया है। चित्रलेखा देवी के पति बाजी पासवान की मृत्यु वर्षों पूर्व हो चुकी है। उनकी तीन पुत्रियों में से एक की शादी हो चुकी है। मंझली बेटी मिली की भी पिटाई से हाथ टूट भी गया था। घटना का कारण बेटियों में संपत्ति का बंटवारा बताया जा रहा है।

तीन बेटियों को देना चाह रही थी संपत्ति

घटना के संबंध में बताया जाता है कि मृतका अपने हिस्से की जायदाद को तीनों पुत्रियों के बीच बांटना चाह रही थी। इस बात को लेकर परिजनों से अक्सर विवाद चल रहा था। इस संबंध में पूर्व में भी दनियावां थाने में मामला दर्ज हो चुका है। इसी बात को लेकर गुरुवार की देर शाम परिजनों से चित्रलेखा देवी का विवाद हुआ था जिसके बाद परिजनों ने चित्रलेखा देवी एवं उनकी पुत्रियों को लाठी और रॉड से पीटकर घायल कर दिया।

पड़ोसियों ने दी पुलिस को सूचना

इससे चित्रलेखा का पैर घटनास्थल पर ही टूट गया, जबकि सिर में गहरी चोट लग गई थी। इसकी सूचना पड़ोसियों ने पुलिस को दी। घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने घायल महिला एवं पुत्री को दनियावां पीएचसी में भर्ती कराया जहां से महिला को बेहतर इलाज के लिए एनएमसीएच रेफर कर दिया गया। वहां रात में चित्रलेखा देवी की मौत हो गई। पुलिस ने शव का पोस्टमॉर्टम करा परिजनों को सौंप दिया है।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप