पातेपुर (वैशाली), संवाद सूत्र। जिला के सभी प्रखंडों में नव निर्वाचित त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों का शपथ ग्रहण संपन्न हो चुका है। वे सभी पद एवं गोपनीयता की शपथ ले चुके हैं। शपथ लिए कई दिन गुजर जाने के बाद भी उन माननीयों ने विधिवत कार्यभार नहीं संभाला है। उनके चेंबर अब तक बंद हैं, खुले भी हैं तो खाली कुर्सी उनके स्वागत के लिए पलक-पांवरे बिछाए इंतजार कर रही है। इसके पीछे कारण है खरमास। कोई भी माननीय खरमास में कुर्सी संभालने को तैयार नहीं दिख रहे। 

प्रमुख, उपप्रमुख के साथ मुखिया की भी खाली पड़ी है कुर्सी

बताते चलें कि बीते 3 जनवरी को प्रमुख-उपप्रमुख का चुनाव संपन्न हो चुका है। प्रखंड प्रमुख और उप प्रमुख की कुर्सी बदल चुकी है। पातेपुर के प्रमुख पद पर रेणु देवी व उपप्रमुख पद पर विमला देवी निर्वाचित हुईं हैं। उसी दिन उनका शपथ ग्रहण भी हो गया था। चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ ही बंद हुआ प्रमुख-उपप्रमुख का चेंबर अब तक बंद पड़ा है। केवल प्रमुख-उपप्रमुख ही नहीं बल्कि पंचायत भवन में मुखिया, ग्राम कचहरियों में सरपंच के चेंबर और कुर्सी खाली पड़ी है। अब तक किसी भी पंचायत में मुखिया, सरपंच के कार्यालय का उद्घाटन नहीं हुआ है।

खरमास के बाद सभी शुभ मुहूर्त में संभालेंगे कुर्सी

जानकारों का कहना है कि खरमास का फंडा है। बड़ी मुश्किल माननीयों ने कुर्सी हासिल की है। मुहूर्त के कारण कुर्सी पर आंच आए या कोई विघ्न आए भला कौन चाहेगा। सभी 15 जनवरी तक इंतजार कर रहे हैं। मकर संक्रांति के बाद कार्यालय की ओपनिंग का सिलसिला शुरू हो जाएगा। ग्रामीण विकास विभाग के निर्देशानुसार शेड्यूल के अनुसार पंचायतों में ग्रामसभा आयोजित हुई। मुखिया के नेतृत्व में ग्रामसभा तो हुई पर पंचायत सरकार भवन अथवा पंचायत भवन के आफिस में कुर्सी पर बैठने से परहेज किया। बताया गया कि खरमास के बाद विधिवत शुभ मुहूर्त में समारोहपूर्वक कार्यालय की ओपनिंग कर माननीय अपनी कुर्सी संभालेंगे।

Edited By: Vyas Chandra